Rudrabhishek रुद्राभिषेक 

सुख शांति और समृद्धि कारक 

Click Here For English

महाशिवरात्रि : 24 फरवरी 2017

 श्रावण माह 10 जुलाई , 2017 से प्रारंभ हो रहा है और 7 अगस्त को समाप्त होगा 

रुद्राभिषेक का अर्थ है भगवान् रूद्र का अभिषेक. रूद्र भगवान् शिव का ही विनाशक अवतार है. मान्यताओं के अनुसार सभी प्रकार के दुःख, पीड़ा ,कठिनाई और मृत्यु के कारक रूद्र ही हैं. वैदिक कर्मकाण्ड के अनुसार रुद्राभिषेक रूद्र देव को प्रसन्न करने का एकमात्र  सरल और  कारगर उपाय है.

ऐसी मान्यता है कि “रुद्राभिषेक” करने से ग्रह जनित समस्त दोष दूर होते हैं साथ ही आयु , आरोग्य और ऐश्वर्य की वृद्धि होती है .

यदि आप निम्न कारणों से परेशान है तो आपको श्रावण माह में अवश्य रुद्राभिषेक कराना चाहिए

  • शनि की साढ़े साती जो तुला , वृश्चिक और धनु राशि पर है
  • शनि की ढैया जो मेष और सिंह राशि पर है
  • राहु की महादशा/अंतर दशा 
  • केतु की महादशा / अंतर दशा 
  • मारकेश की महादशा /अंतर दशा 
  • अष्टम शनि या राहु
  • कुंडली में “ग्रहण दोष” 
  • कुंडली में “काल सर्प दोष”
  • कमजोर चंद्रमा के कारण स्वास्थ्य या मानसिक समस्या 
  • आर्थिक स्थिति कमजोर इत्यादि 

इन सभी उपरोक्त परिस्थितियों में रुद्राभिषेक छोटी , कम खर्च में परन्तु बहुत ही प्रभावी पूजा है 

यदि आप भी इस समय का लाभ लेना चाहते है तो अभी से दिन सुनिश्चित करें

सामूहिक रुद्राभिषेक की दक्षिणा राशि है : Rs. 2100 /- US$ 35 मात्र (सभी सामान के साथ )  Request Now

व्यक्तिगत रुद्राभिषेक की दक्षिणा राशि है : Rs. 5100 /- US$ 85 मात्र (सभी सामान के साथ ) इसके लिए नीचे दिए गए माध्यम से अपनी प्रार्थना भेजें 

Fill Request Form & Pay


A/C Name: Deepak Kumar Dubey
Bank A/C No. IFSC Code
ICICI 025301582289 ICIC0000253
IDBI 0877104000038322 IBKL0000877

  ph icon+91-9990911538

email icon astrotipsindia@gmail.com