Safla Ekadashi/ Safla Ekadashi Vrat / सफला  एकादशी/ सफला  एकादशी व्रत 

13 दिसम्बर (बुधवार ) 2017

satyanarayan

 सफला एकादशी का पौराणिक महत्व 

पौष माह कि कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को सफला  एकादशी के नाम से जाना जाता है.  सफला एकादशी के देवता श्री नारायण हैं. सभी एकादशियों में सफला एकादशी को श्रेष्ठ माना जाता है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार जो मनुष्य एकादशी का व्रत नियमित रखते हैं उनपर भगवान् श्री नारायण की कृपा सदैव बनी रहती हैं.

सफला एकादशी में भगवन विष्णु की पूजा नारियल , लौंग , बेर , अनार , सुपारी  आदि  से की जाती है. पूजा के उपरान्त रात्रि को जागरण का विधान है.

सागार: सफला एकादशी व्रत  में तिल और  गुड़ का सागार लिया जाता है. 

फल: इस एकादशी का फल पांच हाजार वर्षों की तपस्या के समान है.

सफला एकादशी कथा

Mokshda Ekadashi                     एकादशी 2017                          Paush Putrada Ekadashi 

   मोक्षदा एकादशी                                 Ekadashi 2017                                 पौष पुत्रदा एकादशी

 


Copyright © 2017 astrotips.in. All Rights Reserved.
Design & Developed by : v2Web