shani_tajik_jyotish_4467847

वैदिक शनि साढ़े साती शांति अनुष्ठान

Vedic Shani Sade Sati Shanti Puja

पं. दीपक दूबे द्वारा

 ज्योतिष विद्या के अनुसार शनि को अशुभ ग्रह  माना जाता है जिसका प्रभाव अधिकतर नकारात्मक ही पड़ता है.   शनि एक  कड़क शिक्षक भी है जो अपनी दशा में सहनशक्ति, धैर्य और प्रयास की परीक्षा लेता है.

शनि की साढ़े साती में जीवन में कई तरह की कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है जैसे शारीरिक  कष्ट , अवरोध  एवं  अनेकानेक  प्रकार  से   क्षति  उठानी  पड़   सकती  है !  इस  अवधि  में  माता – पिता  को  भी  कष्ट   उठाना  पड़ता   है . उन्नति के लिए अधिक परिश्रम एवं संघर्ष करना पड़ता है  .  मानसिक  अशांति , अनिद्रा , चोट – चपेट इत्यादि की समस्या लगातार बनी रहती है . सामन्यतया शनि की प्रथम साढ़े साती माता – पिता के लिए कष्टकारी , दूसरी साढ़े साती कार्य – व्यापार और दाम्पत्य जीवन में समस्या तथा अंतिम साढ़े साती स्वयं के स्वास्थ्य के लिए अधिक परेशानी का कारक होती है . किसी के भी जीवन में यह अधिकतम 3 बार ही आ सकती है .

शनि की साढ़े  साती  के नकारात्मक परिणामों को कम करने का एकमात्र प्रभावी उपाय है वैदिक शनि शांति अनुष्ठान.

अनुष्ठान में सम्मिलित है:

  • शनि मन्त्रों का जप
  • लघु रुद्राभिषेक 
  • स्तुति
  • यज्ञ

वैदिक शनि साढ़े साती शांति अनुष्ठान में शुभ महूर्त, दिशा, हवन समिधा का विशेष ध्यान दिया जाता है ताकि शनि के नकारात्मक प्रभावों को अधिक से अधिक घटाया जा सके.

जप संख्या: 23,000+2300+230 = 25,530

सभी प्रमुख कर्म काण्ड मेरी देख रेख में संपन्न होते है.

शनि साढ़े साती शांति पूजा की दक्षिणा राशि है – Rs. 15000 /-  US$ 250 मात्र (सभी सामान के साथ )

Fill Request Form & Pay


A/C Name: Deepak Kumar Dubey
Bank A/C No. IFSC Code
ICICI 025301582289 ICIC0000253
IDBI 0877104000038322 IBKL0000877

  ph icon+91-9990911538

email icon astrotipsindia@gmail.com

 

Vedic Shani Sade Sati  Shanti Anushthan

by Pt. Deepak Dubey

Shani is considered to be the strongest malefic and a stern teacher who represents patience, effort, endeavour, and endurance and who brings restrictions and misfortunes.

However, a favourably-placed Shani on the horoscope of a person gives strong career & happy life. Lord Shani is considered to be the indicator of misery, sorrow, death, restriction, longevity, ambition, leadership, integrity, wisdom, authority, humility,delays and responsibility.

Shani Sade Sati Puja is done to minimise  the malefic effects of the planet Saturn (Shani).

In Vedic Shani Sade Sati Puja we do Jap of Shani Mantra, Stuti & Yagya for the particular person.

 

We also take care of auspicious Muhurt, Direction, Havan Samidha and Samagri who supress the negative impact of Lord Shani.

 

Jap Count – 23,000+2300+230 = 25,530

All Major Karma done under my guideline.

Cost: Rs.15,000/- only , It includes all kind of Poojan Samagri, Fee of all Pandits , Offerings to the Pandits and Breaklfast +Lunch of the Pandits.

 For Anushthaan you can contact

ph icon+91-9990911538

email icon astrotipsindia@gmail.com

ORDER NOW


Copyright © 2017 astrotips.in. All Rights Reserved.
Design & Developed by : v2Web