" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे

अंग स्फुरण- फल विचार (शरीर के विभिन्न अंगों का फड़कना और उनके प्रभाव)  

स्त्रियों का बांया एवं पुरूषों का दांया भाग शुभ माना गया है 

 

 अंग  फल  दायें भाग का फल  बांये भाग का फल
 ललाट धार्मिक प्रवित्ति आकस्मिक सफलता आकस्मिक हानि
 भोहें धन प्राप्ति योजनाओं में सफलता योजनाओं में असफलता
 नेत्र स्त्री सुख एवं स्त्री को पुरुष सुख प्रसन्नता सूचक समाचार दुखद समाचार/ मानसिक कलेश
 दोनों भुजा आत्मीय लोगों से मिलना इच्छित कार्यों में सफलता मानसिक कलेश
 पीठ प्रतिष्ठा में कमी उत्साह वृद्धि/ निर्भयता भय एवं दुःख
 जंघा हिम्मत/शक्ति/विकास हिम्मत परास्त
 नासिका वृद्धिदायक पक्ष कमज़ोर होना
 होंठ प्रभाव में वृद्धि प्रभाव में कमी
 मस्तक भूमि सम्बन्धी लाभ
 मध्य कंठ राज्य से लाभ, वृद्धि
 नेत्र का निचला भाग अकारण परेशानी
 कान मनपसंद बातें सुनने को मिले
 नाभि प्रेम अनुभूति
 अधर मनपसंद वास्तु का लाभ
 कंधा भाग्य की अनुकूलता
 दोनों हाथ आर्थिक लाभ
 वक्षस्थल अपमान
 लिंग सम्भोग सुख
 स्त्री की कोख प्रीती
 आंत आर्थिक लाभ
 पाँव स्थान परिवर्तन
 पाँव के तले यात्रा
 घुटने शत्रु वृद्धि

यह भी पढ़ें : स्वप्न और उनके परिणाम 


Copyright © 2017 astrotips.in. All Rights Reserved.
Design & Developed by : v2Web