" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे
" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे
Pt Deepak Dubey

Jupiter in Leo/Jupiter Transit in Leo/Jupiter Transit

गुरु सिंह राशि में/बृहस्पति सिंह राशि में/बृहस्पति का राशि परिवर्तन

गुरु का राशि परिवर्तन

Jupiter in Leo2

गुरु का राशि परिवर्तन कर्क राशि से सिंह राशि में 14 जुलाई , 2015
मंगलवार को प्रातः काल 07:00:18 पर हो रहा है 
Jupiter Transit in Leo Date: 14th July,2015:
Jupiter Transit in Leo Time: 07:00:18

 विशेष: गुरु के राशि परिवर्तन के होने वाले यह परिणाम अत्यंत सामान्य आधार पर हैं , साथ ही यह राशिफल मैंने लग्नराशि के आधार पर दिया है चन्द्र राशि या सूर्य राशि के आधार पर नहीं . पाठकों से अनुरोध है कि किसी विशेष परिस्थिति में अपनी कुंडली की जाँच कराकर ही किसी निश्चित निष्कर्ष पर पहुंचे .

Jupiter in Virgo 11th August,2016 Rashifal

meshमेष : गुरु का सिंह राशि में परिवर्तन मेष राशि के जातकों के लिए अत्यंत ही शुभ होगा , विशेष कर संतान और शिक्षा के मामलों में सफलता का योग बनेगा . हाँ आय के मामले में कुछ कठिनाई का अनुभव करेंगे क्योंकि आय स्थान पर गुरु की शत्रु दृष्टि होगी फिर भी भाग्य के प्रबल होने से आपके काम बनते चले जायेंगे . मान – सम्मान में भी वृद्धि होगी साथ ही आप इस दौरान आध्यात्मिक उर्जा और ज्ञान का अनुभव भी करेंगे .

Ask a Question with Pt Deepak Dubey in Just Rs.1100/- click - Ask A Question

taurusवृष :  वृषभ राशि वालों के लिए गुरु का सिंह राशि में परिवर्तन  बहुत हितकर नहीं रहेगा , फिर भी केंद्र में अर्थात चतुर्थ भाव में गुरु के आने से पारिवारिक सुख की वृद्धि होगी , हालाकि इस दौरान स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या उत्पन्न हो सकती है , विशेष कर यदि मधुमेह या मोटापे के शिकार हैं तो अत्यधिक सावधानी बरतें . बृहस्पति सम्बन्धी दान करना और पीली वस्तुओं का त्याग करना श्रेयस्कर रहेगा .

geminiमिथुन :  मिथुन  राशि के जातकों के लिए गुरु दूसरे भाव से तृतीय भाव में प्रवेश करेंगे . गुरु के इस परिवर्तन से आपके पराक्रम में वृद्धि होगी साथ ही भाई – बहनों से सम्बन्ध बेहतर होंगे , परन्तु आपके भाग्य पक्ष के लिए यह परिवर्तन अधिक उपयोगी नहीं हैं .  अविवाहित लोगों के लिए विवाह के अवसर उत्पन्न होंगे . आय में भी वृद्धि होगी , साथ ही धार्मिक कार्य में रूचि बढ़ेगी .

Scorpioकर्क:   गुरु का सिंह राशि में परिवर्तन , कर्क राशि के जातकों के लिए गुरु का दूसरे भाव में आना जहाँ आय के लिए मध्यम रहेगा वहीँ स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्यायें अधिक उत्पन्न करेगा . आपको इस पूरे वर्ष पर्यंत कर्ज लेने और देने की स्थिति से बचना चाहिए . एक अच्छी बात रहेगी आपके लिए और वह यह है कि जब तक राहू का राशि परिवर्तन नहीं होगा आपकी वाणी अत्यंत ही ओजस्वी रहेगी , बुद्धि प्रखर रहेगी और कुछ अच्छे कार्य संपन्न करेंगे .

Leoसिंह : गुरु का राशि परिवर्तन आपकी राशि में ही हो रहा है , आपके लिए गुरु पंचमेश और अष्टमेश हैं , गुरु के आपके लग्न में आने से जहाँ आपकी बुद्धि तेज होगी वहीँ संतान से भी सुख मिलेगा . शिक्षा – प्रतियोगिता में हिस्सा ले रहे लोगों के लिए यह परिवर्तन अत्यंत ही लाभकारी होगा . भाग्य में भी खूब वृद्धि होगी और यदि आप थोडा भी अध्यात्मिक, सामाजिक या ईश्वर के करीब हैं तो बहुत अधिक सफलता प्राप्त करेंगे इस समय . हाँ स्वास्थ्य के प्रति थोडा सतर्क रहें और मीठी तथा पीली वस्तुओं से उचित दूरी बनायें रखें

virgoकन्या :  गुरु का सिंह राशि में परिवर्तन कन्या राशि के जातकों के लिए किसी भी प्रकार से अच्छा नहीं है . हाँ पारिवारिक सुख में कुछ वृद्धि होगी परन्तु परिवार से दूर भी जाना पड़ सकता है , क्योंकि गुरु की दृष्टि तो सुख भाव पर होगी परन्तु कन्या लग्न के लिए गुरु का द्वादश भाव में आना सुख भंग योग का सृजन करेगा . वैवाहिक जीवन के लिए भी यह समय अत्यंत ही कठिनाई भरा हो सकता है विशेष कर यदि कुंडली में पहले से ही कोई दोष हो तो  आपसी रिश्तों को संभालना मुश्किल हो सकता है .

libraतुलागुरु का सिंह राशि में परिवर्तन तुला राशि के जातकों के लिए सामान्य परिणाम देने वाला है . वैसे आपके पराक्रम में वृद्धि होगी तथा परोपकार की ओर रूचि बढ़ेगी . भाई – बहनों से सहयोग मिलेगा और आप उन्हें सहयोग करेंगे भी , हाँ पत्नी /पति से परिस्थिति वश दूरी बढ़ सकती है . शिक्षा – प्रतियोगिता में आपको सफलता अवश्य मिलेगी परन्तु प्रेम -संबंधों के मामले में थोडा संभल कर चलें तो बेहतर अन्यथा दुःख उठाना पड़ सकता है .

cancerवृश्चिक : वृश्चिक राशि वालों के लिए गुरु का सिंह राशि में आना आय के मामले में कुछ बेहतर परिणाम देने वाला होगा , समाज में भी मान – प्रतिष्ठा बढ़ेगी और आपको सम्मान भी प्राप्त हो सकता है , वैसे शनि की साढ़े साती भी है अतः गुरु का शुभ प्रभाव आपकी परेशानियों को कम करने वाला होगा . यदि शिक्षा – प्रतियोगिता में स्वयं भाग ले रहे हैं तो सफलता के लिए अत्यधिक परिश्रम की आवश्यकता पड़ेगी .  वाद – विवाद में ना ही उलझे तो बेहतर अन्यथा शत्रु हावी हो सकते हैं .

Sagiधनु:  धनु राशि के जातकों के लिए गुरु का सिंह राशि में आना अत्यंत लाभकारी है ,  गुरु आपके लिए लग्नेश और चतुर्थेश है , भाग्य स्थान पर गुरु के आने से आपके लिए चहुमुखी विकास का रास्ता खुलेगा . शारीरक स्वास्थ्य बेहतर होगा , यदि किसी लम्बी बीमारी से जूझ रहे थे तो अब बहुत रहत मिलेगी . संतान सुख की प्राप्ति संभावित है साथ ही जो लोग किसी प्रतियोगिता में भाग ले रहे हैं उन्हें भी सफलता आसानी से प्राप्त होगी .

capriमकर :  मकर राशि के जातकों के लिए गुरु का राशि परिवर्तन स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव देने वाला होगा , अष्टम भाव में गुरु के आने से जो लोग मोटापे के शिकार हैं यह जिन्हें मधुमेह या लीवर सम्बन्धी बीमारियाँ हैं उन्हें अत्यधिक परेशानी उठानी पड़ सकती है . यदि गुरु की दशा या अंतर भी है तो काम में मन नहीं लगेगा , आलस्य हावी रहेगा . हाँ यात्राओं से लाभ अवश्य होगा , भ्रमण की रूचि बढ़ेगी और यह लाभदायक भी रहेगा .

Aquariusकुम्भ : गुरु का सिंह राशि में परिवर्तन कुम्भ राशि के जातकों के लिए मिला जुला प्रभाव देने वाला होगा . पत्नी या प्रेमिका से मतभेद उत्पन्न होने की सम्भावन बनेगी या किसी कारण वश दूरी भी संभव है . वैसे कार्य व्यापार में बढ़ोत्तरी होगी और समाज में मान – प्रतिष्ठा भी बढ़ेगी . अपने सिद्धांतों के प्रति आप और अधिक दृढ़प्रतिज्ञ बनेगें . धार्मिक कार्यों में रूचि होगी और किसी धार्मिक कार्य को स्वयं भी करेंगे . कुल मिलकर गुरु का राशि परिवर्तन आपके जहाँ एक ओर सामाजिक और व्यापारिक दृष्टिकोण से लाभदायक रहेगा तो व्यक्तिगत सुख में कमी की अनुभूति कराने वाला होगा .

Piscesमीन:  मीन राशि के जातकों के लिए गुरु का सिंह राशि में परिवर्तन हर प्रकार से हानिकारक ही है . अपने स्वास्थ्य के प्रति बेहद सतर्क रहें . गुरु आपके लग्न और दशम भाव का स्वामी है अतः यहाँ आपके लिए यह लग्न भंग और राज्य भंग योग का सृजन करेगा . दशम भाव यदि दूषित है  शनि के प्रभाव में है तो केस – मुकदमे की सम्भावना भी बनेगी . लीवर , मधुमेह , हारमोंस , मोटापा इत्यादि से सम्बंधित समस्यायें या तो उत्पन्न हो सकती हैं या यदि पहले से है तो बेहद परेशान कर सकती हैं . जन्म कुंडली में भी यदि गुरु की स्थिति अच्छी नहीं है और लग्न दूषित है तो बेहद सावधानी बरतें और गुरु की वैदिक शांति करायें .

 

गुरु सम्बंधित उपचार :

  1. सामान्य अवस्था में गुरु सम्बंधित दान करें जैसे – पीला वस्त्र , बेसन की मिठाइयाँ , केला इत्यादि और इन वस्तुओं का स्वयं त्याग करें .
  2. गुरु के मन्त्र “ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरुवे नमः ” या “ॐ ब्रीं बृहस्पतये नमः ” का जप करें
  3. विष्णु सहस्त्र नाम का जप भी अत्यंत लाभकारी है
  4. कोर्ट केस या मुकदमे की स्थिति यदि गुरु के कारण बन रही है तो  गजेन्द्र मोक्ष का पाठ करें या कराएँ .
  5. गंभीर स्थिति में गुरु की वैदिक रीति से शांति करायें .

ॐ नमः शिवाय

शुभम भवतु !

Pt-deepak-dubey-Profile-Pic

ज्योतिषविद पं. दीपक दूबे  <View Profile>

(Pt. Deepak Dubey)

09990911538


Puja of this Month
New Arrivals
Copyright © 2017 astrotips.in. All Rights Reserved.
Design & Developed by : v2Web