" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे
" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे
Pt Deepak Dubey

Shani 2019/ शनि 2019

          वर्ष 2019 में सभी राशियों पर पड़ने वाले शनि ग्रह का प्रभाव

Rashifal 2019/ राशिफल 2019

वर्ष 2019 में ‘शनिदेव’ लगभग पूरे वर्ष पर्यन्त ‘धनु राशि’ तथा ‘शुक्र’ के नक्षत्र पूर्वा-आषाढ़ में रहेंगे | जिसका प्रभाव सभी राशियों पर पड़ेगा | इस पूरे वर्ष में 30 अप्रैल से 18 सितम्बर (2019) के बीच ‘शनि-ग्रह’ वक्री रहेंगे | ‘शनिदेव’ वक्री अथवा मार्गी दोनों ही स्थिति में ‘धनु राशि’ में बने रहेंगे तथा पूर्वा-आषाढ़ नक्षत्र में ‘गोचर’ करेंगे, जिसके कारण ‘शनिदेव’ ‘शुक्र’ से प्रभावित होंगे |

‘शुक्र ग्रह’ भौतिक सुख, भोग-विलास, समृद्धि के कारक हैं | इस दृष्टि से ‘शनिदेव’ जातक के लग्न-कुण्डली, गोचर, तथा किस भाव में आ रहे हैं, इसके अनुसार राशियों पर अच्छा और बुरा प्रभाव पड़ेगा |

मेष इस वर्ष ‘शनिदेव’ आपके दशम भाव और एकादश के स्वामी हैं अर्थात कर्म और आय स्थान के स्वामी हैं  और आपके भाग्य स्थान पूरे वर्ष पर्यन्त रहनेवाले हैं | भाग्य स्थान से  ‘शनिदेव’ की तीसरी दृष्टि आपके आय तथा पराक्रम को प्रभावित करेगी | ‘शनिदेव’ ‘शुक्र’ के नक्षत्र में रहेंगे  और छठे स्थान को भी प्रभावित करेंगे | शुक्र आपके लिए दूसरे और सप्तम स्थान के स्वामी हैं |

इस वर्ष आपकी आय में निरन्तरता बनी रहेगी तथा जो लोग व्यापार में हैं, उनकी आय में अच्छी वृद्धि रहेगी |जो लोग ‘शनि’ और ‘शुक्र’ से सम्बन्धित व्यापार में हैं उसमे वृद्धि का योग बनेगा | जो कार्य भाग्य-भरोसे सिद्ध होनेवाला है, उसमे बाधा उत्पन्न होगी | भाग्य आपका साथ नहीं देगा | कार्यस्थल पर बड़े अधिकारीयों से परेशानियाँ मिलेंगी | इस वर्ष आपको किसी अपने से विछोह (दूर) होने का प्रबल योग बना हुआ है | आपके करीबी मित्र से सम्बन्ध खराब होने अथवा टूटने की सम्भावना बन रही है | बहन या यदि महिला मित्र हैं, तो उनसे रिश्ते टूटने की सम्भावना है | आपके शत्रु परास्त होंगे | तथा शत्रुओं का नाश होगा | लम्बे समय से चल रहे कर्ज से मुक्ति मिलेगी | इस वर्ष धन बचत अच्छा नहीं होगी | आप धर्म के पथ पर जा सकते हैं | पिता के लिए यह वर्ष कष्टकरी रहेगा |

वृषभ वृषभ राशि के लिए ‘शनिदेव’ काफी सहयोगी ग्रह हैं | इस वर्ष ‘शनिदेव’ आपके अष्टम भाव में ‘गोचर’ करेंगे तथा नक्षत्र ‘शुक्र’ लग्नेष की रहेगी | ‘शनि-ग्रह’ दशमेष और राज्येष होकर अष्टम भाव में रहेंगे अतः “राज्यभंग” दोष बनायेंगे | परन्तु राज्य स्थान पर इनकी खुद की राशि पर तथा आपके सप्तम भाव में तीसरी दृष्टि होगी | इसके आलावा क्रमशः सप्तम से दशम दृष्टि आपके पञ्चम भाव में होगी तथा केतू का भी सानिध्य मिलेगा | जिसके कारण आपका कोई भी कार्य विलम्ब से होगा |

इस वर्ष आपकी दूर दृष्टि बहुत अच्छी रहेगी | घटित होने वाली घटनाओं का पूर्वाभास होगा | आपकी स्मरण शक्ति तेज रहेगी | जो लोग धार्मिक यात्रा करना चाहते हैं, कर सकते हैं | आध्यात्मिक यात्रा से लाभान्वित होंगे | जो लोग प्राच्य विधाओं में हैं | उनके लिए ‘शनिदेव’ की विशेष कृपा रहेगी | बड़े अधिकारियों की सहायता से राजनैतिक और सामाजिक क्षेत्र में वृद्धि होगी | कार्य स्थल पर पद-प्रतिष्ठा में वृद्धि होने की सम्भावना बनी हुई है | इन सब में सफलता देर से मिलेगी | इस वर्ष भाग्य आपका साथ नहीं देगा | परिश्रम अधिक करना पड़ेगा | ‘शनि ग्रह’ की दशा-अन्तर्दशा हो तो कहीं बड़े निवेश से रुकें | कोई नया कार्य शुरू ना करें | इसमें आपको हानि होगी | स्थाई सम्पत्ति खरीदने के लिए भी उचित समय नहीं है | शिक्षा के मामले में काफी अच्छा वर्ष रहेगा | जो लोग उच्च शिक्षा में हैं तथा अपनी मातृभाषा को छोड़कर  किसी अन्य भाषा की पढ़ाई कर रहे हैं  तो यह ‘शनि’ आपको अच्छी सफलता देंगे | यदि ‘शनि ग्रह’ में ‘केतू ग्रह’, ‘राहू’ या ‘गुरु’ की युति बनेगी तो अपमानित होने का भय बनेगा | आपका कोई बहुत करीबी व्यक्ति अथवा मित्र से विछोह की स्थिति उत्पन्न होगी तथा कोई दुखद समाचार मिलाने की सम्भावना है | अचानक धन हानि का योग बना हुआ है | ‘शनि ग्रह’ के अष्टम भाव में होने के कारण वयस्क लोगों के स्वास्थ में कमी आएगी |

मिथुन मिथुन राशि के लग्नेश ‘बुद्ध’ हैं और इस वर्ष ‘बुद्ध’ और ‘शनि’ के बीच अच्छी मित्रता रहेगी | ‘शनि’ आपके अष्टम भाव तथा आपके भाग्येश के स्वामी हैं | इस पूरे वर्ष ‘शनि’ आपके सप्तम भाव में रहेंगे | यहाँ से इनकी दृष्टि आपके भाग्यस्थान और आपके लग्न भाव पर तथा आपके चतुर्थ भाव में पारिवारिक सुख-शान्ति पर पड़ने वाली है | मार्च महीने के बाद ‘शनि’ और ‘केतू’ की युति बनेगी | ‘शनि’ ‘शुक्र ग्रह’ के नक्षत्र में रहेंगे | ‘शुक्र’ आपके लिए पञ्चम भाव में तथा व्ययेश  के स्वामी हैं |

इस वर्ष भाग्य आपका सहयोगी रहेगा | चूँकि ‘शनिदेव’ आपके भाग्य के स्वामी हैं जिसके  कारण आपका नुकसान होते होते कुछ ऐसी परिस्थिति बनेगी कि आपका नुकसान नही होगा | विपरीत से विपरीत परस्थिति में आपको कष्ट महसूस नहीं होगी | ‘शनिदेव’ में आस्था बनाये रखें | सुदूर के व्यापार से आपको लाभ होगा | कोई नया व्यापार के लिए अच्छा समय नही है | शिक्षा के मामले में भी काफी अच्छा समय है | पढ़ाई में आप काफी अच्छी सफलता प्राप्त करेंगे | आपका मन स्थिर नहीं रहेगा | आप सोचेंगे कुछ, करेंगे कुछ और आपकी स्थिति रहस्यमयी रहेगी | जिसके कारण आपके अपने लोग इससे बड़े परेशान होंगे | पारिवारिक खर्च बढ़ेगा | जिसके कारण आपकी आर्थिक स्थिति कमजोर होगी | परिवार के लोगों का सहयोग नहीं मिलेगा | परिवार से आपको दुख मिलेगा | आपके जीवन साथी के स्वास्थ की समस्या आपको परेशान करेगी | ‘शनि ग्रह’ के सप्तम भाव में होने के कारण नए प्रेम-सम्बन्ध तो बनेंगे मगर उन रिश्तों में स्थिरता नहीं रहेगी | वैवाहिक दृष्टि से भी यह वर्ष आपके प्रतिकूल रहेगा | ‘शनि’ की दशा, अन्तर्दशा होंगी तो प्रेम-सम्बन्धों और वैवाहिक दृष्टि से समस्याएँ और बढ़ेंगी |

कर्क  इस वर्ष पर्यन्त ‘शनिदेव’ आपके छठे भाव में रहेंगे तथा ‘शनि’ आपके सप्तम और अष्टम भाव के स्वामी हैं | कर्क राशि के लिए मुख्य मारकेश हैं | ‘शनि ग्रह’ का गोचर छठें भाव में रहेगा | ‘शनि’ ‘शुक्र’ के नक्षत्र में रहेंगे | शुक्र आपके चतुर्थ भाव के तथा आय स्थान के स्वामी हैं |

आपके अष्टम भाव के स्वामी ‘शनिदेव’ हैं | इस लिय आपके शत्रुओं का नाश होगा | कुछ नए शत्रु भी बनेंगे | ऋण (कर्ज) से मुक्ति मिलेगी | आपकी आयु बढ़ेगी | किसी प्रकार की रोग-व्याधि है, तो उससे आपको छुटकारा मिलेगा | आप किसी से कर्ज लेंगे तो उस कर्ज को चुका  नहीं पायेंगे | इसलिए कर्ज लेने से बचें | किसी भी प्रकार के वाद-विवाद से दूर रहें | आर्थिक दृष्टि से आपके आय में वृद्धि होगी | दूर की सुखद यात्रा का योग बना हुआ है | जो लोग अपने जन्मस्थान को अथवा अपने कार्य स्थान को बदलकर कही दूर रहना चाहते हैं, उनके लिए काफी अच्छा समय है | अनावश्यक धन खर्च बढ़ने की सम्भावाना है | करीबी लोगों से वाद-विवाद बढ़ेगा तथा सम्बन्ध टूटने की सम्भावना बनी हुई है | वैवाहिक जीवन में तनाव अत्यधिक बढ़ेगा | मामला कोर्ट-कचहरी तक जाता है तो उसमे आपको काफी नुकसान होगा | प्रेम-सम्बन्ध अथवा परिवार में ही माता-पिता या जिससे ज्यादा लगाव है | उनसे सम्बन्ध टूट सकता है | कार्य-व्यापार में साझेदारी से हानि होगा | कोई नया व्यापार शुरू करने के लिए भी अच्छा समय नहीं है | अगर आप किसी से वाद-विवाद करते हैं, तो उसमे आपको आपको हानि होगी |

सिंह  ‘शनि’ आपके मारकेश हैं | शनि ‘सूर्य’ के परम शत्रु हैं. तथा  आपके छठे और सप्तम भाव के स्वामी हैं. इस वर्ष शनि आपके पञ्चम भाव में बने रहेंगे | मार्च में ‘केतू’ के साथ ‘शनि’ की युति बनेगी | यहाँ से ‘शनि’ की दृष्टि अपनी राशि के सप्तम भाव पर फिर एकादश भाव में अपने मित्र ‘बुद्ध’ की राशि में, तथा आपके द्वितीय भाव में (वाणी लाभ ) ‘कन्या’ राशि में रहेगे | ‘शनि’ ‘सूर्य’ के नक्षत्र में रहेंगे |

आपके पञ्चम भाव में ‘शनि’ रहेंगे | जिसके प्रभाव से शिक्षा के क्षेत्र में जो लोग विदेशी भाषा का अध्ययन कर रहे हैं या करना चाहते हैं , उनको सफलता मिलेगी | दूसरे विषय या किसी परीक्षा, प्रतियोगिता इत्यादि में बाधा उत्पन्न करेगा | विवाह सम्बन्धित समस्याओं से राहत मिलेगी तथा विवाह होने की सम्भावना बनेगी | नए प्रेम-सम्बन्ध बनेंगे | लेकिन वे सम्बन्ध अन्तर्जातीय होंगे | वैवाहिक जीवन मे कुछ बाधाओं के साथ सफलता का योग बना हुआ है | जो लोग अपने वैवाहिक जीवन से सन्तुष्ट नहीं हैं और रिश्तों से अलग होना चाहते हैं, उन लोगों को सफलता नहीं मिलेगी | रिश्तों में लड़ाई-झगड़ों के बावजूद स्थिरता बनी रहेगी तथा रिश्ते नहीं टूटेंगे |

‘शनि’ और ‘केतू’ की युति आपके छठे भाव में बनेगी | जिससे गर्भवती महिलाओं को समस्याओं का सामना करना पड़ेगा | सन्तान के लिए कष्ट का योग है | सन्तान से सम्बन्धित समस्याएँ बढ़ेंगी | सन्तान के विचार से विचार नहीं मिलेगा | सन्तान के प्रति ना चाहते हुए भी बेवजह धन खर्च होगा तथा सन्तान की शिक्षा के लिए कर्ज लेने की स्थिति उत्पन्न हो सकती है | यदि आपके कुण्डली में ‘गुरु’ (वृहस्पति) तथा ‘बुद्ध’ग्रह शुभ नहीं है तो ऐसी स्थिति में बहुत से लोगों की रूचि अनैतिक कार्यों मे बढ़ेगी तथा इसमे आपको सफलता भी मिलेगी | गलत कार्य के लिए विचार आयेंगे | ऐसे विचारों से दूर रहें | कुछ लोग झूठे आरोपों के शिकार होंगे तथा मित्रों से धोखा मिलेगा |

कन्या ‘कन्या’ राशि के स्वामी ‘ बुध ’  ग्रह हैं | इस वर्ष ‘शनि’ आपके पञ्चम भाव तथा छठे भाव के स्वामी हैं | इस पूरे वर्ष ‘शनि’ आपके चतुर्थ भाव में गोचर करेंगे | ‘शनि’ ‘शुक्र’ के नक्षत्र में रहेंगे | ‘बुद्ध’ के लिए ‘शनि’ और ‘शुक्र’ ग्रह मित्रवत हैं | लाभेष और भाग्येश ‘शुक्र’ हैं और ‘शनि’ ‘शुक्र’ नक्षत्र में गोचर करेंगे |

आपके छठे भाव पर ‘शनि’ हों, और उनकी दशा-अन्तर्दशा आपस में मिल रही हो, तो इस वर्ष आपको कर्ज से मुक्ति मिलेगी | आपके शत्रुओं का नाश होगा | कोर्ट-कचहरी, वाद-विवाद की समस्या हो उससे आपको छुटकारा मिलेगा | कार्य-व्यापार में अस्थिरता रहेगी | स्थान परिवर्तन का योग बना हुआ है | नई जगहों पर आपका मन नहीं लगेगा या किसी अन्य परिस्थिति के कारण आप कही स्थाई नहीं रहेंगे | जिसके कारण बार-बार स्थान परिवर्तित होगा | वाहन और पैतृक सम्पत्ति इत्यादि में रुकावट उत्पन्न करेगा | जो लोग व्यापार करने के लिए वाहन लेना चाहते हैं | उनके लिए यह अच्छा समय नहीं है | ‘शनि’ के साथ ‘केतू’ की युति होगी तो आपका वाहन चोरी हो सकता है, या कोई घटना-दुर्घटना में वाहन क्षतिग्रस्त होने का योग बना हुआ है | पारिवारिक सुख में कमी होगी | आर्थिक मामले में उतार-चढ़ाव की स्थिति रहेगी | जिन लोगों को शारीरिक कष्ट है | उनका कष्ट बढ़ेगा | जिनको नहीं है उन्हें भी ‘पेट  और ‘हृदय’ सम्बन्धित रोग होने की सम्भावना है | जिन लोगों को इस समय सन्तान की प्राप्ति होगी, उनके भाग्य का उदय होगा |

तुला ‘शनि’ ग्रह इस वर्ष पर्यन्त ‘शुक्र’ नक्षत्र में रहेंगे | आपके लग्नेष ‘शुक्र’ हैं | ‘शनि’ आपके तीसरे भाव में जायेंगे | यहाँ से ‘शनिदेव’ की दृष्टि आपके पञ्चम भाव में भाग्य के स्थान पर तथा द्वादश भाव में रहेगी | ‘शनि’ ग्रह का आपके तीसरे भाव में तथा उच्च लग्नेष के नक्षत्र में होने से आपके आत्मबल में वृद्धि होगी |

आपका आत्मबल सन्तुलित रहेगा | आपका उत्साह बाढा रहेगा | आपके अन्दर दृढ़ता रहेगी | आप कोई भी निर्णय बहुत सोच-समझकर करेंगे | सभी प्रकार के सम्बन्धों में स्थिरता रहेगी | शिक्षा की दृष्टि से भी ‘शनिदेव’ आपके अनुकूल हैं | जो लोग उच्च शिक्षा में हैं | उनकी बाधाएँ दूर होंगी तथा अच्छी सफलता मिलेगी | विदेश की यात्राओं से आपको लाभ होगा | तथा आपके कार्य व्यापार में वृद्धि होगा | भाग्य आपका सहयोगी रहेगा | आपके मान-सम्मान में वृद्धि होगी | आप जिस कार्य को शुरू करेंगे उसमे आपको सफलता मिलेगी | धार्मिक प्रवृत्ति बढ़ेगी | सबको एक साथ लेकर चलने की भावना उत्पन्न होगी | मन में दया भाव उत्पन्न होगा | आप दूसरों की सहायता करेंगे | यदि आप अपनी कोई सम्पत्ति बेचना चाहते हैं तो उसमे बाधाएँ उत्पन्न होंगी . कोई नई सम्पत्ति खरीदने के लिए अभी उचित समय नहीं है |

वृश्चिक  ‘वृश्चिक’ राशि के लग्नेश ‘मंगल’ हैं |मंगल’ ग्रह से ‘शनि’ की परम शत्रुता है | ‘शनि’ और ‘मंगल’ की युति रहेगी | जो आपके दूसरे भाव में इस वर्ष पर्यन्त रहेंगे | आपके लिए ‘शनि’ तीसरे भाव में आपके पराक्रम को प्रभावित करेंगे | ‘शनि’ की दृष्टि आपके चतुर्थ भाव, षष्ठी और एकादश भाव पर पड़ेगी | ‘शनि’ ‘शुक्र’ के नक्षत्र में रहेंगे, ‘शुक्र’ आपके सप्तम भाव और द्वादश भाव के स्वामी हैं |

‘शनि’ के प्रभाव से आपके कार्य-व्यापार में परेशानियाँ आयेंगी | धन खर्च ज्यादा होगा | कार्य-व्यापार से आपको लाभ नहीं मिलेगा | जिन लोगों की कुण्डली ठीक नहीं है | और ‘शनि’ के साथ ‘राहू’ या ‘केतू’ की युति बन रही है | तो इसके प्रभाव से जातक का व्यापार बिल्कुल रुक सकता है | जो लोग स्थाई सम्पत्ति भूमि, भवन और वाहन के लिए धन निवेश करना चाहते हैं | तो वो लोग निवेश कर सकते हैं | वाहन लेना चाहें तो ले सकते हैं | उसके लिए अच्छा समय है | आपके पारिवारिक सुख में वृद्धि होगी | जो लोग अपनी कोई सम्पत्ति बेचना चाहते हैं | उनके लिए काफी अच्छा समय है, इसमें आपको लाभ होगा | धार्मिक, राजनैतिक तथा सामाजिक कल्याण की सोच रखते हैं, तो उसमे आपको शनिदेव की कृपा प्राप्त होगी | आपके स्वास्थ में कमी आयेगी | वैवाहिक जीवन में बाधा का योग बनेगा | आपकी वाणी अहंकारपूर्ण रहेगी | यदि आपके कुण्डली में ‘केतू’ का प्रभाव है और ‘गुरु’ की स्थिति ठीक नहीं है | तो आपके लिए भ्रम की स्थिति बनेगी | आप सही निर्णय नहीं ले पायेंगे | कार्य को कल पर टालने की प्रवृत्ति उत्पन्न होगी | शिक्षा के लिए सामान्य स्थिति रहेगी |

धनुधनु’ राशि के स्वामी ‘बृहस्पति’ (गुरु) ग्रह हैं | ‘शनि’ आपके दूसरे भाव में लाभ के स्थान पर और तीसरे पराक्रम भाव के स्वामी हैं | ‘शनि’ आपके लग्न भाव में इस पूरे वर्ष पर्यन्त रहेंगे | ‘धनु’ राशि के लिए ‘शुक्र’ ग्रह परम शत्रु हैं  तथा ‘शनि’ ‘शुक्र’ ग्रह के नक्षत्र में रहेंगे | ‘शुक्र’ आपके लाभ और छठे भाव के स्वामी हैं | ‘धनु’ लग्न वालों के लिए ‘शनि’ सहायक मारकेश  हैं | ‘शनि’ ग्रह की दृष्टि आपके तृतीय भाव में अपनी राशि पर पड़ेगी | तथा सप्तम और दशम भाव में ‘बुद्ध’ की राशि पर पड़ेगी |

यदि आपके कुण्डली में ‘गुरु’ और ‘बुद्ध’ की स्थिति अच्छी है तो आपका स्वास्थ ठीक रहेगा | अन्यथा आपके स्वास्थ पर बेहद नाकारात्मक प्रभाव पड़ेगा | अपने स्वास्थ के प्रति सतर्क रहें | अपने स्वास्थ की समस्याओं को नजरअंदाज ना करें | ‘गुरु’ और ‘बुद्ध’ की युति का आपके कॅरियर पर काफी अच्छा प्रभाव पड़ेगा | ‘शनि’ के प्रभाव के कारण परिश्रम बहुत अधिक करना पड़ेगा | आपके परिश्रम का परिणाम काफी अच्छा मिलेगा | आप लाभान्वित होंगे | आपके मान-सम्मान, प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी | विशेषकर उनकी जो लोग सामाजिक कल्याण और धार्मिक क्षेत्रों में हैं | यात्रा का योग बना हुआ है | यात्राएँ सुखद और लाभकारी होंगी | कार्य-क्षेत्र में स्थान परिवर्तन के साथ लाभ का योग बना हुआ है | ‘राहू’ आपके सप्तम भाव में आयेंगे और ‘शनि’ की दृष्टि होगी | वैवाहिक जीवन के लिए अच्छा समय नहीं है | बहुत से लोगों के रिश्तों के टूटने का योग बना हुआ है | पारिवारिक जिम्मेदारियों के प्रति आपको सतर्क रहना पड़ेगा | आपके आय में वृद्धि होगी | शिक्षा के मामले में सामन्य स्थिति रहने वाली है |

मकर ‘शनि’ पूरे वर्ष आपके द्वादश भाव में रहेंगे | ‘शुक्र’ ग्रह के नक्षत्र में रहेंगे | ‘शुक्र’ आपके पञ्चम भाव और दशम भाव के स्वामी हैं | ‘शुक्र’ के नक्षत्र में शनि द्वादश भाव में आपके लिए लग्नेष और द्वितीय भाव में लाभ स्थान के स्वामी हैं | यहाँ से ‘शनि’ की दृष्टि आपके द्वितीय भाव अपनी राशि पर, छठे भाव ‘बुद्ध’ की राशि पर रहेगी | ‘बुद्ध’ आपके भाग्य स्थान पर और ‘शनि’ आपके लग्नेष (स्वामी) हैं |

आपके लग्नेश (शनि) अगर द्वादश भाव में हैं | आपके लिए अथक परिश्रम का योग बना हुआ है | आपके कार्य के अनुसार आपको कठिन परिश्रम करना पड़ेगा तब सफलता मिलेगी | किसी भी कार्य का परिणाम रुक कर मिलेगा | आप धैर्य के साथ आगे बढ़ें | अधिक परिश्रम से हताश ना हों | यात्राएँ अधिक और कुछ बे-वजह भी होंगी जो आपको परेशान करेंगी | स्थान परिवर्तन का योग बना हुआ है | आपके शत्रुओं का नाश होगा | परन्तु कुछ नए शत्रु भी बनने की साम्भावना है | आपको कर्ज से मुक्ति मिलेगी तथा धन खर्च अधिक होगा | कोर्ट-कचहरी के मामलों में वाद-विवाद इत्यादि में आपका धन खर्च होगा | आय बनी रहेगी | ‘शनि’ ग्रह के कारण आपके परिवार में भय की स्थिति बनी रहेगी | स्थान परिवर्तन और सुदूर की यात्रा से आपके पद-प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी और नौकरी में सफलता मिलेगी | बड़े लोगों का तथा लेगा | भाग्य का सहयोग मिलेगा परन्तु सफलता विलम्ब से मिलेगी | घर-परिवार में कोई अप्रिय घटना घटित हो सकती है | आपके अन्दर अहंकार की भावना उत्पन्न होगी | ‘शनि’ के साथ ‘केतू’ की युति के कारण आपकी विचारधारा में परिवर्तन होगा | जिस पर आपको नियंत्रण रखने की आवश्यकता है | विपरीत परिस्थितियों में भी आपको क्रोध बहुत अधिक आयेगा |

कुम्भ ‘शनि’ आपके लग्नेश हैं | ‘शुक्र’ आपके भाग्य स्थान के तथा चतुर्थ भाव के स्वामी हैं | ‘शनि’ आपके द्वादश और लग्न स्थान के स्वामी हैं | ‘शनि’ आपके एकादश भाव में रहेंगे | ‘शनि’ आपके द्वादश से भी द्वादश स्थान पर रहेंगे | जिसका आपके ऊपर बहुत अच्छा प्रभाव पड़ेगा | ‘शनि’ आपके लिए बेहद शुभ स्थान पर रहेंगे |

जातक की कुण्डली में कोई बेहद खराब दशा-अन्तर्दशा चल रही हो, तो भी कुछ न कुछ अच्छा प्रभाव देंगे | आपके आय में वृद्धि की सम्भावना है | भाग्य आपका सहयोगी रहेगा | भाग्य के  भरोसे कार्य में आपको सफलता मिलेगी | आपकी बौद्धिक क्षमता मजबूत रहेगी | आप निर्णय बहुत सही लेंगे | परिश्रम जितना अधिक करेंगे | परिणाम उतना अच्छा मिलेगा | भौतिक सुख-सुविधाओं में वृद्धि होगी | यात्राएँ सफल होगी | विदेशों में आयात निर्यात के व्यापार में आपको लाभ मिलेगा | किसी बड़ी योजना में निवेश करना चाहते हैं तो कर सकते हैं | उसके लिए काफी अच्छा समय है | गर्भवती महिलाओं के लिए बच्चों के लिए तथा सन्तान के लिए समस्या उत्पन्न हो सकती है | आप अच्छाई का साथ देंगे और दूसरों को भी अच्छाई के राह पर चलने का सलाह देंगे |

मीन ‘मीन’ राशि के जातक के लिए ‘शनिदेव’ एकादश भाव में आय के तथा द्वादश भाव के स्वामी हैं | ‘शनि’ आपके दशम भाव में तथा ‘शुक्र’ के नक्षत्र में रहेंगे | शुक्र आपके अष्टम भाव (पराक्रम) के स्वामी हैं | ‘शनि’ की दृष्टि आपके द्वादश भाव, चातुर्थ भाव और सप्तम भाव पर रहेगी |

मीन राशि के जातक की कुण्डली में ‘शनि’ ग्रह की या ‘राहू’, ‘केतू’ अथवा ‘शुक्र’ ग्रह की दशा-अन्तर्दशा आपस में मिल रही हो तो इसका नाकारात्मक परिणाम मिलेगा | आपको सावधान रहने की आवश्यकता है | जो लोग कर्ज लेना चाहते हैं, उन्हें कर्ज मिलेगा मगर धन रुकेगा नहीं | तनावपूर्ण स्थिति में तथा अप्रत्याशित धन खर्च होगा | किसी भी कार्य में बाधा उत्पन्न होगी | चीजें रुकेंगी | बे-वजह यात्राएँ होंगी | जिनका कोई निष्कर्ष नहीं होगा | पारिवारिक सुख की अनुभूति नहीं होगी | यदि कोई वाद-विवाद, कोर्ट-कचहरी का मामला है तो उसमे आप लम्बे समय तक उल्झे रहेंगे | आपके कार्यस्थल पर आपके साथ काम करने वाले सहयोगी से तथा महिला कर्मचारी से सावधान रहें | आप झूठे आरोपों के शिकार हो सकते हैं, ऐसा योग बना हुआ है | आप के लिए अपमान का भय बना हुआ है | वैवाहिक जीवन में तनाव की स्थिति बनेगी | आपकी माता की सेहत के लिए ‘शनि’ ग्रह का बेहद हानिकारक प्रभाव रहेगा | अपनी माता के सेहत का खयाल रखें | आपके लिए जन्मस्थान से दूर जाने की स्थिति बन रही है |                                


Puja of this Month
Copyright © 2017 astrotips.in. All Rights Reserved.
Design & Developed by : v2Web