" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे
" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे

surya-grahan

 Vedic Grahan Shanti Anushthan/ वैदिक ग्रहण शांति अनुष्ठान

Click Here For English

पं. दीपक दूबे द्वारा

कुंडली में सूर्य या चन्द्रमा का राहू या केतु के प्रभाव में आना ग्रहण दोष बनाता है. कुंडली में इस तरह की युति जिस भी घर में बनती है वह घर दूषित हो जाता है, अर्थात उस घर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है. उदाहरण के लिए यदि राहु ओर चन्द्रमा की युति आठवें घर में हो तो जातक की आयु औरर स्वास्थ पर बहुत बुरा प्रभाव देखने को मिलता है. इसी तरह की युति यदि सातवें घर में हो तो व्यवसाय में असफलताएं ही हाथ लगती हैं, स्वास्थ पर बुरा प्रभाव और जीवन साथी से मतभेद बना रहता है.

ग्रहण दोष के नकारात्मक फल और उसके बुरे प्रभावों को कम करने के लिए वैदिक ग्रहण शांति  अनुष्ठान ही एकमात्र उपाय है.

वैदिक ग्रहण शांति अनुष्ठान में मंत्र (राहु/केतु/सूर्य/ चन्द्र जो भी प्रभावित हो)+ रुद्राभिषेक+ रूद्रगायत्री  जप+ स्तुति+और यज्ञ किया जाता है. वैदिक ग्रहण  शांति अनुष्ठान में शुभ महूर्त, दिशा, हवन समिधा का विशेष ध्यान दिया जाता है ताकि ग्रहण दोष  के नकारात्मक प्रभावों को अधिक से अधिक घटाया जा सके.

सभी प्रमुख कर्म काण्ड मेरी देख रेख में संपन्न होते है.

 

 वैदिक ग्रहण शांति अनुष्ठान मंत्र (राहु/केतु/सूर्य/चन्द्र जो भी प्रभावित हो)+ रुद्राभिषेक+ रूद्रगायत्री  जप+ स्तुति+और यज्ञ  Rs. 21,000/-  Request Now

 

अनुष्ठान कराने हेतु संपर्क करे 

  ph icon+91-9990911538

email icon astrotipsindia@gmail.com

 

 


Puja of this Month
New Arrivals
Copyright © 2017 astrotips.in. All Rights Reserved.
Design & Developed by : v2Web