विवाह सम्बन्धी विशेष योग

(Marriage Related Yoga)

“जानें- विवाह पूर्व कुंडली मिलान में किन बातों का रखे ध्यान”

विवाह अर्थात स्त्री – पुरुष के मिलन का माध्यम और सृष्टि के विस्तार का आधार . यह एक ऐसा माध्यम है जिसका होना सृष्टि के सृजन और जीवन क्रम को निर्बाध गति से संचालित होने के लिए अनिवार्य है . इस पृथ्वी पर ऐसी कोई घटना नहीं है जिनपर ग्रहों का प्रभाव नहीं है . आइये आज विस्तार पूर्वक जानते हैं कि विवाह होने , ना होने , प्रेम विवाह , अंतर्जातीय विवाह , विधुर होना या विधवा होना ये सब कब और कैसे होता है . ग्रहों की कौन सी स्थितियां इन घटनाओं के लिए जिम्मेदार हैं –

 

 

 

 

शुभम भवतु !

ज्योतिषविद पं. दीपक दूबे  <View Profile>

यदि आप किसी भी प्रकार की पूजा /अनुष्ठान वैदिक रीति से कराना चाहते हैं तो क्लिक करें  – वैदिक पूजा एवं  अनुष्ठान   

Related Services By Pt. Deepak Dubey


Copyright © 2017 astrotips.in. All Rights Reserved.
Design & Developed by : v2Web