" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे
" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे
Pt Deepak Dubey

Paush Chaturthi/Paush Sankashti Ganesh Chaturthi/ Sankashti Chaturthi/ Shri Ganesh Chaturthi/पौष चतुर्थी/श्री गणेश चौथ व्रत कथा /पौष मासी गणेश चतुर्थी/ गणेश चतुर्थी

ganesh-chaturthi

पौष  संकष्टी चतुर्थी व्रत तिथि 25 दिसम्बर (मंगलवार) 2018 

चतुर्थी तिथि आरम्भ : 25 दिसम्बर, 01:47 PM

चतुर्थी तिथि समाप्त : 26 दिसम्बर, 10:46 AM

व्रत का फल : जो भी इस व्रत को श्रध्दा पूर्वक करता है उसे सफलता अवश्य प्राप्त होती हैं .

पौष गणेश चौथ व्रत कथा 

एक समय रावण ने स्वर्ग के सभी देवताओं को जीत लिया संध्या करते हुए बाली को पीछे से जाकर पकड़ लिया . वानरराज बाली रावण को अपनी बगल (कांख) में दबाकर किष्किन्धा नगरी ले आये और अपने पुत्र अंगद को खेलने के लिए खिलौना दे दिया . अंगद रावण को खिलौना समझकर रस्सी से बांधकर इधर उधर घुमाते थे .

इससे रावण को बहुत कष्ट और दु:ख प्राप्त हुआ .रावण ने दु:खी मन से अपने पितामह पुलस्त्य जी को याद किया . रावण की इस दशा को देखकर पुलस्त्य ने विचारा की रावण की यह दशा क्यों हुई ? अभिमान हो जाने पर देव, मनुष्य, असुर, सभी की यही गति होती है . पुलस्त्य ऋषि ने रावण से पूछे तुमने मुझे क्यों याद किया है ? रावण बोला- पितामह मैं बहुत दु:खी हूँ , यह नगरवासी मुझे धिक्कारते हैं अब आप मेरी रक्षा करें . रावण के मुखं ऐसे वचनों को सुनकर पुलस्त्य बोले – रावण तुम डरों नहीं तुम इस बन्धन से जल्दी मुक्त होगे तुम विघ्नविनाशक गणेशजी का व्रत करो . पूर्वकाल में वृत्रासुर की हत्या से छुटकारा पाने के लिए इंद्र ने इस व्रत को किया था . इस लिए तुम भी इस व्रत को करो

रावण ने भक्तिपूर्वक इस व्रत को किया और बन्धन रहित हो अपने राज्य को प्राप्त किया .

जो भी इस व्रत को श्रद्धा-पूर्वक करता हैं उसे सफलता अवश्य प्राप्त होती हैं .

मार्गशीर्ष संकष्टी गणेश चतुर्थी         संकष्टी गणेश चतुर्थी तिथि 2018         माघ संकष्टी गणेश चतुर्थी

 

 


Puja of this Month
New Arrivals
Copyright © 2017 astrotips.in. All Rights Reserved.
Design & Developed by : v2Web