" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे
" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे
Pt Deepak Dubey

Sun Transit in Taurus/Sun In Taurus 2017/ Surya Vrishabh Rashi Mein 2017/ सूर्य वृषभ राशि में /सूर्य का वृषभ राशि में गोचर/ सूर्य वृषभ राशि में 2017

आत्मा , राज्य , सामर्थ्य , आत्मबल, शक्ति, प्रसिद्धि , प्रशासन का कारक सूर्य वृषभ राशि

में 14 मई , 2017 (रविवार) को  23.11 मिनट (दिल्ली) पर प्रवेश कर रहा है.

मई माह में पड़ने वाले व्रत एवं त्यौहार जानने के लिए क्लिक करें. 

सूर्य के वृषभ राशि में प्रवेश का आप पर होने वाला प्रभाव (लग्न के आधार पर)

मेष : सूर्य आपके द्वितीय भाव में प्रवेश करेगा जिसके कारण कार्य – व्यापार में वृद्धि होगा , मान – सम्मान भी बढेगा , सामाजिक दायरा  भी बढेगा , कार्य क्षमता और बौद्धिक क्षमता अद्भुत रहेगी अतः बहुत से मामलों में सफ्कता मिलेगी . एक बात जो पक्ष में नहीं है वह आपकी वाणी इसमें दूसरों के प्रति उपहास और कटाक्ष का भाव प्रस्फुटित होगा , संभव है दूसरों का अनादर भी कर बैठें . करीबी और परिवार के लोगों से वैचारिक मतभेद उत्पन्न हो सकता है .संतान के कारण मन प्रसन्न होगा या उसके कारण लाभ होगा.

वृष : सुखेश सूर्य आपके लग्न में गोचर करेगा जो एक उत्तम प्रकार का राजयोग है . इस समय खूब सफलता मिलेगी . सूर्य के कारण आपकी मानसिक , शारीरिक , सामाजिक , बौद्धिक और निर्णय लेने की क्षमता इस समय विलक्ष्ण होगी . कुछ लोगों के लिए यह सूर्य पदोन्नति के अवसर लेकर आएगा . थोडा अहंकार उत्पन्न हो सकता है जिससे आपको बचना चाहिए . यदि शुक्र कमजोर है तो स्वास्थ्य की समस्या विशेष कर बुखार होने की संभावना बनेगी .

मिथुन : पराक्रम भाव का स्वामी सूर्य अब आपके द्वादश भाव में प्रवेश करेगा . सूर्य की यह स्थिति अच्छी नहीं है इस समय अकारण धन खर्च होगा , दूसरे ग्रहों की स्थिति के अनुरूप या तो धार्मिक या ऐशो आराम और कुछ लोगों का धन अय्याशी में भी खर्च होगा . आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है . कार्यों में असफलता के योग बनेगे . कुछ लोगों के लिए पैसा परेशानी का कारण बन सकता है. संभव है कुछ लोगों को अपमान का सामना भी करना पड़े .

कर्क : कर्क लग्न के जातकों के लिए सूर्य मित्र है तथा लाभ भाव का स्वामी है जो अब आपके एकादश भाव में प्रवेश करेगा जो आपके लिए अत्यंत ही योगकारक है खूब आर्थिक प्रगति होगी , इस दौरान आपको अपने मित्रों तथा भाई बहनों से खूब सहयोग प्राप्त होगा . इस समय संतान से भी प्रसन्नता होगी तथा जो लीग शिक्षा – प्रतियोगिता में भाग ले रहे हैं या कोई नौकरी के लिए आवेदन कर रहे हैं उन्हें भी सफलता मिले . यह सूर्य अचानक धन लाभ का भी योग बनाता है . शेयर मार्किट से भीलाभ के अच्छे योग है . पैतृक संपत्ति प्राप्त होने के भी अच्छे योग बनेगे . कुल मिलाकर बहुत ही अच्छा समय रहेगा .

सिंह : आपके लग्न का स्वामी अब दशम भाव में प्रवेश करेगा , एक प्रकार का सर्वोत्तम राजयोग है सूर्य की यह स्थिति सामाजिक – राजनैतिक क्षेत्र के लोगों को यह अप्रत्याशित लाभ देने में समर्थ होगा . खूब मान – सम्मान बढेगा . जो लोग नौकरी में हैं उन्हें भी पदोन्नति मिल सकती है यदि कोई अशुभ ग्रह की दशा ना हो तो , यह सूर्य थोडा पारिवारिक सुख में कमी और माँ के स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा नहीं होगा अतः थोडा ध्यान देने की आवश्यकता पड़ेगी लेकिन और सभी मामलों में कम से कम सूर्य इस समय बहुत सहयोगी रहने वाला है .

कन्या : द्वादशेश सूर्य अब आपके नवम भाव में प्रवेश करेगा यह आपको भाग्य के मामलों में कुछ सहयोग करेगा परन्तु आपकी प्रवृत्ति को स्वर्थोंन्मुख बनाएगा . इस समय घर – परिवार की प्रतिष्ठा के लिए कुछ करने को तत्पर रहेंगे फिर भी पिता से वैचारिक मतभेद उत्पन्न हो सकता है . इस दौरान कोई भी अनैतिक कार्य करने से बचें अन्यथा मान हानि या राज दंड की प्रबल सम्भावन बनेगी अतः अपने कर्मों पर तीक्ष्ण दृष्टि रखें तथा उसका स्व-मूल्यांकन भी करें .

Book Your Telephonic Consultancy With Pt. Deepak Dubey Now!

तुला : आयेश सूर्य आपके अष्टम भाव में प्रवेश करेगा , सूर्य का यहाँ आना शुभसूचक नहीं है . कार्यों में कुछ असफलता मिलेगी या बहुत विलम्ब से सफलता मिलेगी .. इस समय व्यय अधिक होगा तथा स्वास्थ्य भी परेशान कर सकता है . अपने मान सम्मान को लेकर भी सचेत रहें . नए कार्य प्रारंभ करने के लिए कम से कम यदि सूर्य की दशा है तो समय उपयुक्त नहीं होगा . जीवन साथी के स्वास्थ्य से सम्बंधित कुछ समस्या भी  परेशान कर सकती है .

वृश्चिक : दशमेश सूर्य आपके सप्तम भाव में प्रवेश करेगा जिसके परिणाम स्वरूप वाणी प्रखर होगी . व्यवहार कुशलता बढ़ेगी परन्तु पिता और जीवन साथी से वैचारिक मतभेद तथा बात – बात पर टकराहट बढ़ेगी . यह सूर्य कार्य – व्यापार के लिए बहुत अच्छा परिणाम देगा . महत्वाकांक्षा और कार्य क्षमता खूब बढ़ी चढ़ी रहेगी . अपने कार्य स्थल पर आपका वर्चस्व बढेगा . कुल मिलाकर यह सूर्य आपके लिए बेहतर परिणाम देने वाला होगा .

धनु : भाग्येश सूर्य अब आपके छठे भाव में प्रवेश करेगा जिसके कारण भाग्य भंग योग का सृजन होगा . इस समय भाग्य साथ नहीं देगी आपको केवल भाग्य भरोसे नहीं बैठना होगा . परिश्रम का परिणाम थोड़े विलम्ब से तो कभी नहीं मिल सकता है अतः धैर्य बनाये रखें . अपने कार्य क्षेत्र में आपके शत्रु उत्पन्न होंगे , अकारण लोग शत्रुता करेंगे . अनावश्यक धन का व्यय होगा . यात्रायें बहुत अधिक हो सकती हैं . खर्चों पर नियंत्रण रखने की सलाह होगी मेरी .

मकर : अष्टमेश सूर्य आपके पंचम भाव में प्रवेश करेगा यहाँ यह सूर्य मिलाजुला परिणाम देने वाला होगा . संतान के लिए यह अच्छा नहीं है , गर्भवती महिलाओं के लिए भी यह अत्यंत कष्टकारी हो सकता है थोड़ी लापरवाही बड़ा नुक्सान कर सकती है अतः हमेशा सावधान रहें . हर कार्य में कुछ विलम्ब के बाद ही सफलता मिलेगी . आर्थिक मामलों में भी यह सूर्य संघर्षमय स्थिति उत्पन्न करेगा . थोडा क्रोध और आवेश बढेगा इस समय जिससे अपनों से वाद – विवाद संभव है . क्रोध पर नियंत्रण रखें.

कुम्भ : कुम्भ लग्न के जातकों के लिए सूर्य चतुर्थ भाव में प्रवेश करेगा , गृहस्थ सुख के लिए यह एक बेहतर परिवर्तन है . सुख – सुविधाओं में वृद्धि होगी परन्तु पिता के स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं है साथ ही यह पिता के साथ सम्बन्ध में भी कड़वाहट उत्पन्न कर सकता है यह सूर्य . आर्थिक मामलों में सफलता मिलेगी तथा व्यापार करने वालों को भी लाभ होगा तथा नए अवसर उत्पन्न होंगे . सरकारी क्षेत्र में कार्य करने वाले लोगों के लिए कुछ नए अवसर उत्पन्न होंगे .

मीन : मीन लग्न में सूर्य षष्टेश है अतः बहुत योग कारक नहीं है अब यह आपके तीसरे भाव में आएगा . यह भाई – बांधवों से सम्बन्ध को ख़राब करेगा . विशेष कर बड़े भाई के साथ शत्रुता पूर्ण व्यवहार या हानि करा सकता है . विचारों में थोड़ी उग्रता रहेगी . पैतृक संपत्ति कुछ विवाद के बाद मिलेगी . आर्थिक मामलों में कुछ सफलता अवश्य मिलेगी और समाज में दबदबा बढेगा . मित्रों से खूब सहयोग मिलेगा परन्तु नौकरों से सावधान रहें वे हानि पहुंचा सकते हैं.

सूर्य का उपचार

शुभम भवतु 

पं. दीपक दूबे (View Profile)


Puja of this Month
New Arrivals
Copyright © 2017 astrotips.in. All Rights Reserved.
Design & Developed by : v2Web