" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे
" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे
Pt Deepak Dubey

Surya Grahan 2017/Solar Eclipse 2017/सूर्य ग्रहण 2017

Chandra Grahan 2017/Lunar Eclipse 2017/ चन्द्र ग्रहण 2017

surya-grahan

पहला सूर्य ग्रहण

तारीख : 26 फ़रवरी (रविवार ), 2017

ग्रहण का समय (भारतीय समयानुसार) : यह सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा.

सूतक का समय  : भारत में सूतक मान्य नहीं है.

यह सूर्य ग्रहण पूर्ण ग्रहण न होकर कंकण सूर्य ग्रहण है. भूगोल पर इस ग्रहण के स्पर्शादी काल भारतीय समयानुसार (I S T) इस प्रकार हैं.

  • स्पर्श – 5:41 PM
  • कंकण आकृति प्रारंभ – 6:46 PM
  • ग्रहण मध्य – 8:23 PM
  • कंकण आकृति समाप्त – 10:00 PM
  • ग्रहण समाप्त – 11:05 PM

फरवरी माह में होने वाला यह सूर्य ग्रहण  भारत में दिखाई नहीं देगा अतः  भारत में सूतक मान्य नहीं है. यह ग्रहण दक्षिण अमेरिका महाद्वीप के पेरू , ब्राज़ील, बेल्विया , परागुए , अर्जेंटीना , चिली तथा अफ्रीका महाद्वीप के अधिकाँश भागों में दिखाई देगा.  यह ग्रहण भारत सहित पकिस्तान. नेपाल , श्री लंका , अफगानिस्तान , फिजी और अन्य किसी भी ऐशिया देश में दृश्य नहीं होगा. यूरोप , उत्तरी अमरीका और  ऑस्ट्रेलिया में भी यह सूर्य ग्रहण दृश्य नहीं होगा. 

यह सूर्य ग्रहण बेहद शक्ति शक्तिशाली है क्योंकि ग्रहण शतभिषा नक्षत्र में लग रहा है जो राहू की नक्षत्र है अर्थात राहू के नक्षत्र में  सूर्य चंद्रमा बुध तथा केतु हैं , शनि और राहू दोनों ही केतु के नक्षत्र में हैं तथा सूर्य , चंद्रमा , केतु और बुध ये सभी शनि से दृष्ट हैं , गुरु वक्री है, तो यह एक प्रकार से बेहद शक्तिशाली ग्रहण है जिससे भूकंप , आगजनी , विस्फोट , आतंकवादी घटना , सत्ता परिवर्तन , राज शोक , किसी बड़े राजनेता की मृत्यु , और प्रजा में रोष संभावित है . आईए संक्षेप में देखें  इस सूर्य ग्रहण का विभिन्न राशियों पर प्रभाव : 

मेष: सरकारी कार्यों में असफलता तथा व्यापार में हानि.

वृषभ : पिता को कष्ट और और पैतृक संपत्ति में विवाद तथा समस्या

मिथुन: वैराग्य की भावना बढ़ेगी ओर आध्यात्मिकता की ओर झुकाव होगा.

कर्क:  गुप्त शत्रुओं से सावधान आपके खिलाफ कोई षड्यंत्र हो सकता है.

सिंह: वैवाहिक सुख में परेशानी.

कन्या: साहस बढेगा, अपने स्वार्थ के लिए किसी की हानि कर बैठेंगे.

तुला: पुत्र को कष्ट संभावित.

वृश्चिक: माता के स्वास्थ में हानि.

धनु: यश और कीर्ति में वृद्धि, मित्रों का भरपूर साथ.

मकर: आर्थिक विषमताएं बढ़ेगी.

कुम्भ: कीर्तिदायक समय, विदेशी संबंधों में प्रगाढ़ता ओर उनसे लाभ.

मीन: अनिष्ट्सूचक

 

surya-grahan

दूसरा सूर्य ग्रहण

तारीख : 21-22 अगस्त (सोमवार) , 2017

ग्रहण का समय (भारतीय समयानुसार) – यह सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा.

सूतक का समय  – भारत में सूतक मान्य नहीं है.

यह सूर्य ग्रहण भाद्रपद अमावस, सोमवार को 21 अगस्त, 2017 को भारतीय समय अनुसार (I S T) 9: 16 PM से 22 अगस्त रात्रि 2: 34 AM  के मध्य भूगोल पर दिखाई देगा.

  • ग्रहण प्रारम्भ – 9:16 PM
  • खग्रास प्रारंभ – 10:18 PM
  • परम्ग्रास  -11:51 PM
  • खग्रास समाप्त – 1:32 AM
  • ग्रहण समाप्त – 2:34 AM

यह खग्रास सूर्यग्रहण पश्चमी युरोप, उत्तर पूर्वी ऐशिया , उत्तर पश्चमी अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका, दक्षिणी अमेरिका के कुछ भाग, प्रशांत तथा अटलांटिक महासागर में विभिन्न रूपों में दिखाई देगा.

Om Namah Shivay

Pt. Deepak Dubey (view profile)


Puja of this Month
New Arrivals
Copyright © 2017 astrotips.in. All Rights Reserved.
Design & Developed by : v2Web