" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे
" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे
Pt Deepak Dubey

 Sun In Libra 2016/ सूर्य तुला राशि में 2016

sun
  • सूर्य 17 अक्टूबर, 2016 को सायं 6:43 बजे कन्या राशि को छोड़कर अपनी नीच राशि अर्थात तुला में प्रवेश कर रहा है. 
  • यह राशिफल सूर्य या चन्द्र राशि पर आधारित न होकर लग्न पर आधारित है.
  • यह राशिफल बहुत ही सामान्य आधार पर है अतः किसी विशेष परिस्थिति में अपनी कुंडली की जाँच कराकर ही किसी निष्कर्ष पर पहुंचे .
  • अच्छे या बुरे परिणाम आपकी वर्तमान दशा- अंतर दशा पर निर्भर करते हैं.

 Click Here For Rashifal 2017

राशिफल 2017 के लिए क्लिक करें 

देखें वीडियो :

mesh मेष : सूर्य आपके सप्तम भाव में आ रहा है जिसके परिणाम स्वरूप यदि विवाह सम्बंधित कोई बात चल रही है तो उसमे बाधा आएगी परन्तु प्रेम सबंधों के लिए यह बेहतर . अहंकार उत्पन्न होगा . वाद – विवाद में समझौता वादी मानसिकता रहेगी . वैवाहिक जीवन में कुछ खटपट होगी . कुछ लोगों के लिए यह स्थान और कार्य में परिवर्तन देने वाला होगा . विदेश यात्रा से लाभ होगा

vrishabha वृष : सूर्य छठे भाव में अपनी नीच राशि में रहेगा . सूर्य की यह स्थिति आपके अशुभ है . यह लगभग सभी कार्यों में बाधा उत्पन्न करने वाली होगी . हर कार्य में रुकावटें आयेंगी , चोट – चपेट का योग भी बनेगा . यह आत्मविश्वास में भी कमी करेगा . क्रोध बहुत जल्दी आएगा और छोटी – छोटी बातों पर आएगा . माता – पिता के लिए भी यह कुछ कष्टकारी स्थिति उत्पन्न करेगा.

mithun  मिथुनसूर्य का प्रवेश अपनी नीच राशि तुला में और आपके पंचम भाव में होगी अतः यहाँ यह नीच राशि में होते हुए भी स्थान बली होगा और शुभ परिणाम देगा , यदि आपको कोई संतान है तो यह और फलदायी होगा . खर्च के मामले में प्रवृत्ति थोड़ी कंजूसी भरी रहेगी परन्तु शिक्षा तथा प्रतियोगिता के लिए यह अत्यंत उपयोगी रहेगा . आत्मविश्वास में वृद्धि तथा सोच सकारात्मक रहेगी .

karka कर्क : सूर्य आपके लिए चतुर्थ भाव में गोचर करेगा. यहाँ यह आपके दसम भाव पर अपनी पूर्ण उच्च दृष्टि डालेगा . यातायात – यात्रा इत्यादि से सम्बंधित कार्य करने वालों को यह अधिक लाभ देगा . परिवार से दूर जाने की स्थिति उत्पन्न हो सकती है विशेष कर पिता से . कार्य क्षेत्र में वृद्धि होगी और उन्नति का योग बनेगा . सूर्य की यह स्थिति ह्रदय रोगियों के लिए कष्टकारी है

simha सिंह : लग्नेश सूर्य तीसरे भाव में नीच राशि में आ रहा है जिसके कारण जहाँ एक और भाग्य बहुत प्रखर होगी वहीँ कार्यों में शिथिलता और उत्साह में कमी रहेगी . अनिर्णय की स्थिति भी उत्पन्न होगी . सूर्य की यह स्थिति बड़े भाई के लिए ठीक नहीं है . इस समय मित्र अधिक बनेगे और उनपर अप खूब धन भी खर्च करेंगे . किसी गलत संगत में पड़ने से बचें

kanya कन्या : आपके लिए सूर्य दूसरे भाव में गोचर करेगा . सूर्य की यह स्थिति आर्थिक स्थिति के लिए ठीक नहीं है . धन का बचत करना कठिन होगा . निर्णय शक्ति कमजोर . वाणी विवादित हो सकती है .पारिवारिक सुख में भी यह सूर्य कुछ कमी करेगा. धन का नाश गलत कार्यों में और अधिक मात्रा में संभावित है . चोरी और अग्नि का भय बना रहेगा .

tula तुला : सूर्य आपके लग्न में गोचर करेगा . यह आपकी सोच को थोडा संकरा बनाएगा . वैसे आर्थिक लाभ और कार्य – व्यापार को गति मिलेगी और स्वपराक्रम के बल पर आर्थिक लाभ भी होगा लेकिन स्वार्थपरता हावी रहेगी , स्वभाव में थोडा रूखापन रहेगा , वैवाहिक जीवन सुखी रहेगा और जीवन साथी का भरपूर सहयोग मिलेगा .

vrishchika वृश्चिक : सूर्य आपके द्वादश भाव में अपनी नीच राशि में गोचर करेगा . सूर्य की यह स्थिति एक ओर जहाँ आपको वाद – विवाद में विजय दिलाने वाली होगी वहीँ दूसरी ओर पदोन्नति में बाधक होगी . बड़े अधिकारीयों का सहयोग नहीं मिलेगा बल्कि कुछ विरोध का सामना करना पड़ सकता है . पिता से भी वैचारिक मतभेद संभावित है . इस समय सुदूर यात्रा लाभकारी होगी . दूसरों पर भरोसा ना करें . कार्य – व्यवसाय में कुछ रुकावट का अनुभव करेंगे .

dhanu धनु :  भाग्येश सूर्य आपके एकादश भाव में नीच का हो रहा है यह स्थिति आर्थिक उन्नति के लिए अच्छी है वैसे सूर्य स्थान हानि भी करता है विशेष कर धन के मामले में परन्तु भाग्येश का धन भाव में आना आर्थिक मामलों के लिए शुभ है . आपके कार्य में ख्याति बढ़ेगी और कुछ नए अवसर उत्पन्न होंगे . शिक्षा – प्रतियोगिता के लिए सूर्य की यह स्थिति अत्यंत ही सहयोगी है . संतान को सुख या उसकी वजह से आपको सुख प्राप्त होगा .

makara मकरअष्टमेश सूर्य अपनी नीच राशि में आपके दसम भाव में आएगा अतः कार्य-व्यापर में तो उन्नति होगी परन्तु पिता के लिए यह अत्यंत ही कष्टकारी है अतः सावधान रहें विशेष कर सूर्य की दशा –अंतर हो तो . इस समय दूसरों की निंदा करने की प्रवृत्ति होती है जिसके कारण अपनों से विवाद होता है . कोर्ट – कचहरी में कोई मामला हो तो थोड़ी सावधानी बरतें .

 kumbhaकुम्भ : सूर्य आपके भाग्य स्थान में गोचर करेगा . जीवन साथी के स्वास्थ्य के लिए यह स्थिति ठीक नहीं है . साझेदारी के कार्यों में भी कुछ कठिनाइयाँ उत्पन्न होंगी . इस समय पराक्रम और आत्मबल तो खूब बढ़ा – चढ़ा रहेगा परन्तु परिश्रम के अनुरूप परिणाम नहीं मिलेंगे . अपने प्रयासों को अधिक बढ़ाना होगा . इस समय मित्रों का खूब साथ मिलेगा और उनके साथ खूब समय व्यतीत करेंगे .

meena मीन :  : सूर्य आपके लिए अष्टम भाव में आ रहा है , कुछ नास्तिकता हावी होगी , धर्म और अच्छे कर्म में अरुचि उत्पन्न होगी . पिता के लिए यह बहुत कष्टकारी स्थिति है . आपके स्वास्थ्य के लिए भी यह ठीक नहीं है , पैरों में चोट लगने का योग बनेगा सावधानी रखें . आर्थिक मामलों में यह बहुत सफलता देगा . कर्ज ख़त्म होने की स्थिति उत्पन्न होगी

Sun Transit 2016/Sun Transit In October 2016/ Sun In Libra 2016/ Sun In Libra/ सूर्य गोचर 2016/ सूर्य तुला राशि में/ सूर्य तुला में 2016


Puja of this Month
New Arrivals
Copyright © 2017 astrotips.in. All Rights Reserved.
Design & Developed by : v2Web