" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे

Rashifal 2017/ Horoscope 2017

राशिफल 2017/ भविष्यफल 2017

Click Here For English

Rashifal 2017/राशिफल 2017 सूर्य या चन्द्र राशि पर आधारित न होकर लग्न पर आधारित है.  वर्ष 2017 का यह राशिफल बहुत ही सामान्य आधार पर है अतः किसी विशेष परिस्थिति में अपनी कुंडली की जाँच कराकर ही किसी निष्कर्ष पर पहुंचे . अच्छे या बुरे परिणाम आपकी वर्तमान दशा- अंतर दशा पर निर्भर करते हैं.

 

   meshमेष राशिफल – 2017 (Mesh Rashifal 2017 – Aries Horoscope  2017) : वर्ष 2017 के आरम्भ से लेकर मध्य तक राहु आपके पंचम स्थान पर रहेगा. आपके भाग्य के स्वामी बृहस्पति वर्ष 2017 के आरम्भ में आपके छठे भाव में हैं और वर्ष के आधे से अधिक समय तक यानी सितम्बर तक इसी भाव में बने रहेंगे. शनि वर्ष 2017 के आरम्भ में आपके अष्टम भाव में होगा, जनवरी माह की 26 तारीख को आपके भाग्य स्थान में चला जायेगा. केतु जो आपके एकादश भाव में है , बना रहेगा वर्ष 2017 के मध्य तक. बृहस्पति के छठे भाव में बैठने के कारण आपको स्वास्थ्य सम्बन्धी समयाओं का सामना करना पड़ सकता है. अतः स्वास्थ के प्रति सचेत रहें. राहु के पंचम भाव में होने के कारण वर्ष 2017 के प्रारम्भ से मध्य तक शिक्षा, प्रतियोगिता  में रुकावट आ सकती है या कुछ मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है.  मनचाही सफलता पाने के लिए अधिक परिश्रम और प्रयासों को बढाने की आवश्यकता पड़ेगी .आधे वर्ष के उपरान्त राहु आपके चतुर्थ भाव में आ जायेगा परन्तु यहाँ आकर राहु पारिवारिक सुख  में कमी , माता को स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या उत्पन्न करेगा. आपको वर्ष 2017 में पारिवारिक तनाव का सामना करना पड़ सकता है. इन सभी कष्टों के बावजूद धन का आगमन इस वर्ष कहीं न कहीं से बना रहेगा. आय के सम्बन्ध में यह वर्ष आपको निराश नहीं करेगा. और पढ़ें……..

विशेष: वर्ष 2017 में मेष लग्न के जातक शनि की ढैय्या के प्रभाव से मुक्त रहेंगे.

Book your Telephonic Consultancy with Pt Deepak Dubey Now

vrishabha   वृष राशिफल – 2017 (Vrishabh Rashifal 2017 – Taurus Horoscope  2017) : वर्ष 2017 में राहु आपके चतुर्थ भाव में , बृहस्पति पंचम एवं शनि सप्तम भाव में तथा केतु आपके दशम भाव में रहेगा. प्रमुख ग्रहों की यह स्तिथि वर्ष 2017 के मध्य तक बनी रहेगी. केवल शनि जनवरी माह के अंत में धनु राशि में प्रवेश करेगा. शनि के इस गोचर के कारण आपकी शनि की ढैय्या आरम्भ हो जाएगी. अष्टम का शनि आपके लिए कई प्रकार की कठिनाई ला सकता है. इस वर्ष आपको आर्थिक विषमताओं का सामना करना पड़ सकता है. स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या उत्पन्न हो सकती है. यदि आप ह्रदय रोग से ग्रसित हैं तो सावधान रहने की आवश्यकता पड़ेगी.  ग्रहों की स्तिथि दुर्घटना के योग भी  बना रही है अतः सचेत होकर यात्रा करना ही बेहतर होगा.  संतान सम्बन्धी कार्यों के लिए यह वर्ष अच्चा है. शिक्षा प्रतियोगिता के लिए भी वर्ष 2107 बेहतर साबित होगा. वर्ष के प्रारम्भ में आय माध्यम और बाद में  बेहतर रहेगीकार्यक्षेत्र में बड़े अधिकारियों के कोप का सामना करना पड़ सकता है. हालाँकि यह स्तिथि पूरे वर्ष नहीं रहेगी कुछ मामलों में उच्च अधिकारियों का आपको साथ भी मिलेगा. वर्ष 2017 के आरम्भ के मध्य भाग तक पारिवारिक सुख में भरी कमी आएगी परन्तु वर्ष के अंतिम भाग में आपका पराक्रम बहुत बढ़ा चढ़ा रहेगा. आपकी कार्यक्षमता बढ़ेगी. हालांकि भाग्य का साथ बहुत अधिक नहीं रहेगा परन्तु उच्च अधिकारियों का साथ वर्ष के अंतिम भाग में मिलने लगेगा और वर्ष के अंत तक आप का उत्थान निश्चित है, अपने परिश्रम के बल पर कई कार्यों को पूरा करेंगे.और पढ़ें……..

विशेष: वर्ष 2017 में वृषभ  लग्न के जातक “शनि की ढैय्या” के प्रभाव से ग्रस्त रहेंगे.

  वैदिक अनुष्ठान एवं पूजा के लिए क्लिक करें. 

mithun मिथुन राशिफल – 2017 (Mithun Rashifal 2017 – Gemini Horoscope  2017) : वर्ष 2017 में राहु आपके पराक्रम भाव में , बृहस्पति  चतुर्थ भाव में, शनि छठे भाव में तथा केतु भाग्य स्थान पर रहेंगे. जनवरी माह के अंत में शनि आपके सप्तम भाव में आ जायेगा जिसके कारण आप पर बहुत शुभ प्रभाव पड़ेगा. वर्ष 2017 आपके लिए शुभ समाचार लायेगा. आपकी कार्यक्षमता बहुत बढ़ी रहेगी. हालाँकि भाग्य के सितारों में टकराहट रहेगी, इसलिए कोई भी कार्य बहुत उत्साहित होकर न करे. शनि और केतु की सीढ़ी दृष्टि आय के स्थान पर होने के कारण यदि आप न्यायपूर्ण मार्ग से धन कमाएंगे तो हे भाग्य साथ देगा अन्यथा  नहीं. अध्यात्म और धार्मिकता के साथ किये गये कार्यों में सफलता अवश्य ही मिलेगी. यदि किसी भी कार्य को करने में छल कपट या झूठ का सहारा लिया गया तो बदनामी निश्चित है. करनी और कथनी में भेद न करें . सच्चाई और सकारत्मक सोच ही आपको सफलता दिलाएगी. इस वर्ष आपको इमानदारी के साथ अपने कार्यों को पूरा करना होगा. संतान और ज्ञान अर्जित करने के लिए के लिए वर्ष 2017 बेहतर रहेगा.  वर्ष 2017  के आरम्भ के 6 माह आपके लिए शुभ होंगे लगभग 75% कार्य पूर्ण होंगे परन्तु बाद के 6 माह जब राहु अपना राशि परिवर्तन करेगा तो परिणाम आपकी आशा के अनुरूप नहीं आयेंगे. धन संग्रह में कठिनाई हो सकती है. चोट लगने का खतरा बनेगा. आपको “नर्वस सिस्टम” से सम्बंधित कोई रोग घेर सकता है.और पढ़ें……..

“पितृ पक्ष” में कराएं पितृ दोष शांति/ निवारण, अनुष्ठान/ पूजा 

karka  कर्क राशिफल – 2017 (Kark Rashifal 2017 – Cancer Horoscope  2017) वर्ष 2017 में राहु आपके दूसरे  भाव में , बृहस्पति  तीसरे  भाव में, शनि पंचम भाव में तथा केतु अष्टम भाव  में  रहेंगे. वर्ष 2017 का पहला भाग यानि पहले 6 माह आपके लिए कुछ कठिनाई ला सकता है. धन संग्रह में आपको परेशानी का सामना करना पद सकता है. स्वभाव में चिडचिडापन और क्रोध की भी अधिकता रहेगी. वाणी दूषित होगी जिसके कारण आप अन्यास ही विवादों में पड़ जायेंगे. रक्त या नसों से सम्बंधित किसी रोग के होने की आशंका गृह स्तिथि दर्शा रही है. पारिवारिक जीवन में तनाव हो सकता है. वर्ष 2017 में कर्क राशी के जातकों को बहुत संयम से काम लेने की आवश्यकता है क्योंकि वर्ष के अंतिम 6 माह में ये सभी परेशानियों के बढ़ने के आसार हैं. हालाँकि बृहस्पति के सहयोगी होने के कारण आपका कोई भी कार्य पूर्ण रूप से नहीं रुकेगा, भाग्य का साथ बना रहेगा और जैसे तैसे आप के कार्य वर्ष भर होते रहेंगे विशेषकर सितम्बर माह तक. कुल मिलकर देखा जाये तो इस वर्ष 25-30% कार्यों में हे आपको सफलता मिलेगी अतः धैर्य बनाये रखें और भगवान् शिव की आराधना करे. और पढ़ें……..

सुख शांति एवं समृद्धि के लिए कराएं “रुद्राभिषेक

simha  सिंह राशिफल – 2017 (Singh Rashifal 2017 – Leo Horoscope  2017) वर्ष 2017 में सिंह राशि के जातकों के लिए राहु लग्न में ही  विराजमान है, बृहस्पति दूसरे भाव में , शनि चतुर्थ में तथा केतु सप्तम भाव में रहेंगे. ग्रहों की यह स्तिथि बनी रहेगी वर्ष के मध्य तक, केवल शनि को छोड़कर. 26 जनवरी 2017 में ही शनि आपके पंचम भाव में आ जायेगा. शनि गोचर के उपरान्त कर्क राशि के उन जातकों के लिए बेहतर समय आएगा जो विवाह के लिए प्रतीक्षारत है. विवाह में आने वाली सभी रुकावटों का अंत होगा तथा इच्छित वर या वधु से विवाह योग बनेगा. प्रेम संबंधों के लिए भी यह वर्ष उत्तम फलदायी है. संबंधों में प्रगाड़ता आएगी परन्तु उत्तेजना, क्रोध और अहंकार भी बढेगा. वर्ष का अंतिम भाग आपके लिए अधिक लाभप्रद होगा. जो जातक दूरस्थ कार्यों से जुड़े हैं या इन्टरनेट से सम्बंधित कार्य कर रहे हैं उन्हें अवश्य ही  सफलता मिलेगी. आय भी आशानुरूप होगी परन्तु व्यय भी अधिक होगा. घटना दुर्घटना का योग बना हुआ है अतः वाहन चलाते  समय सावधान रहें और जहाँ तक हो सके अकेले न जाएँ. केतु के छठे भाव में आने के कारण शत्रु आपके सामने सर नहीं उठा पाएंगे. किसी भी प्रकार का वाद विवाद जो काफी समय से चला आ रहा है , समाप्त होगा परन्तु वहीँ केतु की यह स्तिथि के कारण आपको चोट लग सकती है. कुल मिलकर देखा जाये तो यह वर्ष आपके लिए मिलाजुला परिणाम देने वाला होगा. जहाँ एक ओर आप अधिक व्यय और क्रोध का सामना करेंगे वहीँ दूसरी ओर प्रेम सम्बन्ध पनपेंगे , आय की अधिकता रहेगी, शत्रुओं  का नाश होगा , ज्ञान, बौधिक क्षमता , पराक्रम और आध्यात्मिकता में बढ़ोत्तरी होगी. और पढ़ें……..

Book your Telephonic Consultancy with Pt Deepak Dubey Now

kanyaकन्या राशिफल – 2017 (Kanya Rashifal 2017 – Virgo Horoscope  2017) वर्ष 2017 में बृहस्पति आपके लग्न में विराजमान रहेंगे. राहु दुसरे भाव में , शनि  तीसरे भाव में यानि आपके पराक्रम भाव में रहेंगे तथा केतु  छठे भाव पर रहेंगे. जनवरी माह के अंत में शनि अपना स्थान परिवर्तन कर आपके चतुर्थ भाव में  भाव में आ जायेगा, और यदि आपकी चन्द्र राशि भी कन्या हे है तो आप पर “शनि की ढैय्या का प्रभाव” पड़ना आरम्भ हो जायेगा. वर्ष 2017  का प्रारम्भ आपके लिए समस्याएं ला सकता है. इस वर्ष आप अपने स्वास्थ सम्बन्धी  मामलों को अनदेखा न करें. धन की यदि बात की जाये तो व्यय की संभावना अधिक दिख रही है. भाई बहनों के साथ तनाव के संकेत भी ग्रह दशा दिखा रही है. उनके साथ वैचारिक मतभेद उत्पन्न हो सकता है. यदि पारिवारिक जमीन जायदाद का कोई मामला पहले से ही चल रहा है तो इस वर्ष के आरम्भ में उसके बढ़ने के आसार नज़र आ रहे है. इस प्रकार के मामलों में आपसी विवाद बढ़ सकता है और कोर्ट कचेहरी तक की नौबत आ सकती है. चोट चपेट लगने का खतरा भी बना हुआ है अतः यात्रा के समय और वाहन चलते समय सावधानी बरतें. जहाँ एक और ग्रहों के कुछ बुरे प्रभाव वर्ष 2017 के प्रारंभ में दिखाई दे रहे हैं वहीँ विवाह के लिए प्रतीक्षारत जातकों के लिए यह समय बेहद अनुकूल है. वर्ष 2017 की जनवरी माह से सितम्बर माह तक का समय विवाह के लिए अनुकूल है , आपको अपना  मनपसंद जीवन साथी इस वर्ष अवश्य मिल जायेगा. कार्य व्यापार में यह वर्ष मिला जुला परिणाम देने वाला होगा. कन्या लग्न के जो जातक नया व्यापार आरम्भ करने जा रहे है उन्हें सफलता मिलेगी. आवेग में आकर कोई निर्णय न लें क्योंकि धन सम्बन्धी मामलों में व्यय की संभावना वैसे भी अधिक हे है.   कुल मिलकर देखा जाये तो यह वर्ष 60% आपके पक्ष में रहेगा और लगभग 40% मामलों में आपको असफलता का मुंह देखना पड़ेगा. और पढ़ें……..

Get Your ‘2017 Year Report’ By Pt. Deepak Dubey

tula तुला राशिफल – 2017 (Tula Rashifal 2017 – Libra Horoscope  2017) वर्ष 2017 में बृहस्पति आपके द्वादश भाव  में विराजमान रहेंगे. राहु एकादश  भाव में , शनि  दूसरे  भाव में तथा केतु  पंचम  भाव में रहेंगे. गुरु यानि बृहस्पति का द्वादश भाव में जाने से आपकी धन की स्तिथि स्थिरता आएगी. जनवरी अंत में शनि के गोचर के उपरान्त जब शनि दुसरे भाव से तीसरे स्थान पर आएगा तो आपको संतान सम्बन्धी समयाओं का सामना करना पड़ सकता है. गर्भवती महिलायों को बेहद सावधान रहने की आवश्यकता है. छोटे बच्चो का अधिक ध्यान रखें. उनको अकेला कहीं आने जाने न दें. जून 2017 तक का समय संतान के मामले बेहद संवेदनशील है अतः सावधान रहें. धन के मामले में वर्ष 2017 शुभ संकेत दे रहा है. धन की आवक अच्छी रहेगी.  तुला लग्न के कुछ जातकों को अक्समात धन लाभ भी हो सकता है. वर्ष के अंतिम 6 महीने आपके माता पिता के लिए बेहद कष्टकारक हैं. माता पिता के स्वास्थ का ख्याल रखें यह समय उनके लिए संवेदनशील है. परिवार में कोई शोक समाचार मिलने की भी संभावना बन रही है. और पढ़ें……..

 Get Your Love Relationship Report By Pt.Deepak Dubey Now!

 vrishchikaवृश्चिक राशिफल – 2017 (Vrishchik Rashifal 2017 – Scorpio Horoscope 2017 ) वर्ष 2017 जनवरी के अंत तक  वृश्चिक  राशि के जातकों के लिए शनि लग्न में ही  विराजमान है, बृहस्पति एकादश  भाव में ,राहु दशम में तथा केतु चतुर्थ भाव में रहेंगे.  यदि  जन्म कुंडली में चन्द्रमा भी वृश्चिक राशि में हो तो ‘शनि की साढ़े साती‘ के अंतिम चरण का प्रभाव आप पर रहेगा. राहु ग्रहों की यह स्तिथि बनी रहेगी वर्ष के मध्य तक, केवल शनि को छोड़कर. 26 जनवरी 2017 में ही शनि आपके दूसरे भाव में आ जायेगा परन्तु वर्ष 2017 के मध्य तक रहू दशम में तथा केतु चतुर्थ भाव में हे बने रहेंगे. बृहस्पति के एकादश भाव में होने के कारण यह वर्ष धन के लिए बहुत अच्छा साबित होगा. वृश्चिक राशि के जातकों के लिए वर्ष 2017 ज्ञान अर्जन के लिए भी अनुकूल है. जो जातक किसी शिक्षा प्रतियोगिता में बैठने जा रहे है उनके लिए सफलता की संभावना अधिक है. शिक्षा के क्षेत्र में कोई शोध या कोई डिग्री लेने में आप सफल होंगे. संतान प्राप्ति के लिए सितम्बर तक का समय अनुकूल है. जो दम्पति संतान प्राप्ति के इच्छुक हैं उन्हें सफलता अवश्य मिलेगी परन्तु यह वर्ष पारिवारिक संबंधों विशेषकर पिता के साथ वैचारिक मतभेद उत्पन्न करेगा.  आपके अपने उच्च अधिकारियों के साथ भी मतभेद होने की संभावना है. परिवार के सदस्यों के साथ विवाद और कलह की स्तिथि बनेगी. जहाँ एक और यह वर्ष धन और बौधिक मामलों के लिए बेहतर है वहीँ मानसिक कष्ट और पारिवारिक संबंधों के लिए प्रतिकूल बना रहेगा. शनि की साढ़े साती झेल रहे रहे वृश्चिक लग्न के जातकों के लिए यह समय थोडा राहत भरा रहेगा. आपकी अधिकतर परेशानियां अब कम होंगी . और पढ़ें……..

भयानक पितृ दोष और प्रेत बाधा निवारण हेतु कराएँ “माँ वन दुर्गा अनुष्ठान” 

dhanuधनु राशिफल – 2017 (Dhanu Rashifal 2017 – Sagittarius Horoscope  2017) वर्ष 2017 में बृहस्पति आपके दशम भाव  में विराजमान रहेंगे. राहु नवम भाव में , शनि  तीसरे भाव में यानि आपके पराक्रम भाव में रहेंगे तथा केतु  छठे भाव पर रहेंगे. धनु लग्न के जातक जो अभी स्वस्थ हैं  वो भी अपने खान पान और दिनचर्या को नियमित कर लें क्योंकि वायु और जोड़ों  से सम्बंधित  रोग विकार होने का खतरा आप पर भी है. वर्ष के प्रारंभ में मध्यम और अंत तक आते आते अचानक अधिक धन आने की संभावना  रहेगी .मान प्रतिष्ठा के लिए भी यह वर्ष बहुत शुभ है. आपके द्वारा किये गये कार्यों की सरहाना होगी और हो सकता है आपको सम्मानित भी किया जाये. पदोन्नति की भी प्रबल संभावनाएं हैं. वर्ष का अंत शिक्षा के क्षेत्र में आपको बहुत अधिक उन्नत्ति देगा. शिक्षा के क्षेत्र में आपके ग्रह  इस वर्ष अत्यधिक सहयोगी और प्रभावशाली साबित होंगे. अपने कार्यों के प्रति समर्पण या निस्वार्थ भाव रखें और सत्यता के साथ कार्यों को पूरा करें.संतान के लिए यह वर्ष शुभ है यदि धनु लग्न के जातक संतान के इच्छुक हैं तो इस वर्ष उन्हें संतान प्राप्ति के योग बन रहे हैं . धनु लग्न के जातकों को इस वर्ष होने वाली संतान निश्चय ही बहुत योग्य और आज्ञाकारी होगी. यदि शनि पीड़ित है तो कोर्ट कचेहरी के मामलों में आप पड़ सकते हैं. यदि आपकी चन्द्र राशी भी धनु है और शनि पीड़ित है तो शनि का उपचार अवश्य करें. और पढ़ें……..

सुख शांति एवं समृद्धि के लिए कराएं “रुद्राभिषेक

makaraमकर राशिफल – 2017 (Makar Rashifal 2017 – Capricorn Horoscope  2017) अष्टम गत राहु का प्रभाव स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता है. साथ ही  शनि ग्रह की दृष्टि आपके अष्टम भाव पर सीधी पड़ रही है,इन्ही कारणों से वर्ष पर्यंत आपका स्वास्थ्य बहुत अनुकूल नहीं रहेगा.यदि आप बृहस्पति या राहु की दशा या अन्तर्दशा से गुज़र रहे हैं तो भी समस्या के बढ़ने का खतरा बना रहेगा.आय के मामले में यह वर्ष बहुत अनुकूल नहीं है.आशा अनुरूप परिणाम पाने के लिए दिन रात मेहनत करनी पड़ेगी.  यदि आपका कार्य व्यापार  भ्रमण पर निर्भर करता है या आप किसी भी प्रकार से विदेश से जुड़े हैं तो  यह वर्ष आपके लिए बहुत अनुकूल है.यदि साझेदारी में कार्य कर भी रहें हैं तो आपनी आँखें खुली रखें और अपने साझेदार के साथ विचार मिला कर  चलें अन्यथा साझेदारी टूटने का खतरा रहेगा और आपको भारी धन हानि हो सकती है. तनाव, उत्तेजना और अधीरता पर नियंत्रण रखेंगे तभी सफलता प्राप्त कर पाएंगे. अपने आपको तनाव मुक्त रखने का प्रयास करें और परिणाम की चिंता किये बिना कर्म पर केन्द्रित रहें. यदि मकर लग्न के जातकों का सप्तम भाव भी दूषित है तो यह रिश्तों के टूटने की संभावनायों को और प्रबल करेगा. भाई बहनों से भी विवाद की स्तिथि उत्पन्न हो सकती है हालाँकि इसके कारण आप ही होंगे क्योंकि आपमें उत्तेजना बहुत अधिक बढ़ी हुई रहेगी. और पढ़ें…….

Get Your Kid’s Horoscope By Pt Deepak Dubey Now!

kumbhaकुम्भ राशिफल – 2017 (Kumbh Rashifal 2017 – Aquarius Horoscope  2017) यह वर्ष आपके आत्मबल और कार्य क्षमता के लिए बहुत ही उत्तम वर्ष है. इस वर्ष आपके अन्दर कार्य करने का उत्साह वर्ष पर्यंत बना रहेगा और आप अपनी क्षमता से बढ़कर कार्य करेंगे. वर्ष भर कहीं न कहीं से आपको आय होती रहेगी किन्तु साथ ही धोखा होने की भी संभावनाएं प्रबल हैं.वर्ष के अंतिम भाग में यात्राएं होंगी और व्यय भी अधिक होने की संभावना है. खर्चे बढ़ेंगे परन्तु शत्रुओं का नाश होगा और पुराने चले आ रहे कर्जों से छुटकारा मिलेगा.बृहस्पति के अष्टम भाव में होने के कारण इस वर्ष मोटापे या वजन बढ़ने से होने वाले रोगों का खतरा आप पर बना रहेगा. जोड़ों का दर्द, मधुमेह और लीवर से सम्बंधित समस्या आपको घेर सकती हैं. वर्ष 2017 परीक्षा एवं  प्रतियोगिता  के लिए भी बहुत शुभ एवं उन्नत्तिदायक है. वैवाहिक संबंधों और प्रेम संबंधों में  वैचारिक मतभेद के कारण कटुता आएगी और वाद विवाद की स्तिथि पैदा होगी. और पढ़ें……..

Book your Telephonic Consultancy with Pt Deepak Dubey Now

meenaमीन राशिफल – 2017 (Meen Rashifal 2017 – Pisces Horoscope  2017): बृहस्पति जो आपके लग्नेश और दशमेश हैं सितम्बर 2017 तक आपके सप्तम  भाव में विराजमान रहेंगे. वर्ष के प्रारंभ में शनि आपके भाग्य स्थान पर रहेंगे. वर्ष 2017 में मीन लग्न के जातकों को स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या परेशान नहीं करेगी. वर्ष पर्यंत आपका स्वास्थ्य सामान्य ही रहेगा , किसी भी प्रकार के बड़े और घातक रोग होने का खतरा इस वर्ष नहीं है.मीन लग्न के जातकों के लिए वर्ष 2017 बहुआयामी उन्नति देने वाला होगा. आप चाहे किसी भी प्रकार के कार्य व्यापार में हों आपकी उन्नति होगी. नए प्रोजेक्ट्स में हाथ डालने से हिचकिचाएं नहीं. यदि आप पैसे से सम्बंधित कोई लेन देन करें तो विशेष सावधानी बरतें क्योंकि अप्रैल माह से सितम्बर माह तक समय संवेदनशील है.वर्ष 2017 में विवाह के योग प्रबल हैं और आपको योग्य जीवन साथी का साथ मिलेगा. घर में कोई न कोई शुभ एवं धार्मिक कार्य का आयोजन होगा. इस वर्ष जून माह के बाद का समय संतान पक्ष के लिए अनुकूल नहीं है. मीन लग्न के जातकों को वर्ष के दूसरे भाग में या तो संतान के कारण कष्ट होगा या उनकी संतान को कष्ट होगा.और पढ़ें……..

शुभम भवतु !

ज्योतिषविद पं. दीपक दूबे  

<View Profile>

यदि आप किसी भी प्रकार की पूजा /अनुष्ठान वैदिक रीति से कराना चाहते हैं तो क्लिक करें  – वैदिक पूजा एवं  अनुष्ठान   


 


Copyright © 2017 astrotips.in. All Rights Reserved.
Design & Developed by : v2Web