आरोग्य और शुभता के सरल उपाय 

  • कभी भी दोनों हाथो से आपको अपना सिर नहीं खुजाना चाहियें |
  • बिना किसी कारण के तिनको को तोडना और मिट्टी के ढेले को फोड़ना नहीं चाहियें |
  • कभी भी दांतो से नाखूनों और बालो को नहीं चबाना चाहियें |
  • आसान को पैर से खींचकर नहीं बैठना चाहियें |
  • कभी भी नाखूनों को नाखूनों से को ना काटे |
  • उस व्यक्ति का बुरा होता होता है जो दूसरों की  निंदा करता है और अशुद्ध रहता है |
  • कभी भी पैर से पैर नहीं धोने चाहियें |
  • कभी भी कांसे के बर्तन का प्रयोग कुल्ला करने के लिए और पैर धोने के लिए ना करे |
  • दांतो से दांतो से को नहीं रगड़ना चाहियें |
  • सिर हाथ पैर को हिलाना नहीं चाहियें |
  • पैर के ऊपर पैर रखे और पैर को पैर से ना दबाएं |
  • सिर के बालो को खींचना  और सिर पर चोट करना मना है |
  • कुछ विशेष कार्य जैसे भोजन , स्नान , जप , पूजा, होम , पितृतर्पण इत्यादि करते समय शरीर को अकड़ कर नहीं बैठना चाहियें |
  • मनुष्य को मल, मूत्र , डकार , अपानवायु , वमन , छींक , जम्हाई , भूख , प्यास , आंसू , निद्रा , शुक्र और तेज साँसों को नहीं रोकना चाहियें | ऐसा  करने से शरीर में कई रोग उत्पन्न होते होते है |
  • भोजन ,पूजा ,किसी शुभ कार्य और जप के दौरान या फिर किसी श्रेष्ठ व्यक्ति के सामने छींकना या थूकना नहीं चाहियें |
  • जहां जनसमूह एकत्रित हो वहां भोजन के लिए समय से पहुंचे .
  • किसी शुभ कार्य के दौरान मुख या नाक से कफ का त्याग नहीं करना चाहिए |
  • बहुत जोरो से ना हँसे |
  • यदि आप किसी सभा में उपस्थित है तो मुख को ढंके बिना जम्हाई , खांसी , डकार और छींके ना |
  • बिना किसी कारण के थूकना वर्जित है |
  • कभी भी अपने गुरु , देवता और अग्नि के सामने पैर फैलाकर नहीं बैठना चाहियें |
  • अपने दोनों हाथो को पीठ के पीछे जोड़कर ना बैठे |

pooja

By Pooja Punetha (Team Astrotips)