" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे
" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे
Pt Deepak Dubey

Surya Grhan 2016/सूर्य ग्रहण 2016

1 सितम्बर (बृहस्पतिवार) , 2016

surya grahan

यह सूर्य ग्रहण भाद्रपद, कृष्णपक्ष की अमावस्या, बृहस्पतिवार, 1 सितम्बर , 2016 को तंज़ानिया,  मलेशिया, यमन, मोजाम्बिक, मडागास्कर, अटलांटिक महासागर और भारतीय महासागर से दिखाई देगा। अफ्रीका में यह आंश‍िक रूप से ही दिखाई देगा।

ग्रहण का समय (IST):  12:40 PM  से 4:30 PM  

सूतक का समय: भारत में मान्य नहीं 

Click Here For English

(वर्ष 2016 के प्रथम सूर्य ग्रहण और सूतक का समय जानने के लिए क्लिक करें )

यदि आपकी कुंडली में ग्रहण दोष  है तो ग्रहण दोष शांति पूजा के लिए यह दिन सर्वोत्तम है. पितृ दोष शांति “ और  “वैदिक सूर्य शांति पूजा “ के लिए भी यह दिन उपयुक्त माना जाता है. इस दिन किये गये कार्यों का प्रभाव कई गुना अधिक हो जाता है इसलिए मन्त्र सिद्धि और किसी भी तरह के धार्मिक अनुष्ठान करने के लिए ग्रहण का  दिन अत्यंत ही उपयुक्त माना गया है.

 सूर्य ग्रहण का विभिन्न राशियों पर प्रभाव

meshमेष : यह सूर्य ग्रहण मेष लग्न के जातकों के लिए मन में कुछ निराशा का भाव लाएगा. आपका मन अशांत रहेगा और आप किसी अनजाने और अनावश्यक घटना से भयभीत रहेंगे.  सूर्य ग्रहण से आपकी संतान को कष्ट या संतान के कारण आपको कष्ट हो सकता है. मेष लग्न की गर्भवती महिलाओं को विशेष सावधानी बरतनी चाहिए.

Click Here For “Personalized Jupiter Transit Report 2016

vrishabhaवृषभ : वृषभ लग्न के जातकों को अपनी मां का विशेष ख्याल रखना चाहिए , उनको कष्ट संभावित है. यदि आप किसी यात्रा पर जा रहे हों तो सावधान रहें यात्रा में हानि के योग बन रहे हैकारोबार या नौकरीपेशा है तो कागज़ी कार्यवाही सावधानीपूर्वक करें . आपने राज़ किसी से भी सांझा न करें.  करीबियों से धोखा मिलने के योग बन रहे हैं.  पारिवारिक सुख में कमी आप महसूस कर सकते है और किसी अप्रिय समाचार मिलने की भी आशंका है.

वैदिक अनुष्ठान एवं पूजा के लिए क्लिक करें. 

mithun मिथुन: मिथुन लग्न के जातकों को अपने बड़े भाई का विशेष ख्याल रखना होगा. ग्रहों की स्तिथियाँ आपके बड़े भाई के लिए अनुकूल नहीं हैं. परिवार में कलह और तनाव की स्तिथि उत्पन्न हो सकती है.  मित्रों के साथ किसी भी प्रकार की बात को साझा न करें,  मित्रों से धोखा मिलने के आसार हैं. आपकी सोच इस समय नकारात्मकता लिए हुए रहेगी अतः परिवार या करीबी लोगों से विवाद होने की संभावना है. वाणी पर नियंत्रण आवश्यक है.

Book your Telephonic Consultancy with Pt Deepak Dubey Now

karka कर्क: कर्क लग्न के जातकों के लिए संवेदनशील समय रहेगा . आप मानसिक रूप से अपने आपको कमज़ोर पाएंगे. मधुमेह , उच्च रक्त चाप के मरीजों के लिए यह समय बेहद हानिकारक है. अतः धैर्य और सकारात्मक सोच आपके लिए बेहद आवश्यक है. इस समय एकांत छोड़ मित्रों के साथ समय बिताएं. अपने आपको कार्यों में व्यस्त रखें. व्यायाम और खान पान पर विशेष ध्यान दें. धन सम्बन्धी निर्णय सोच समझ कर लें धन हानि के योग बन रहे है.

“पितृ पक्ष” में कराएं पितृ दोष शांति/ निवारण, अनुष्ठान/ पूजा 

simha सिंह: सूर्य यहाँ बहुत प्रभावशाली रहेगा फिर भी आपको मानसिक तनाव रहेगा.  राज्य – सरकार से भय तथा परिवार में  बड़ों से विरोध का सामना करना पड़ सकता है.  अत्यधिक क्रोध और उत्तेजना की स्थिति उत्पन्न हो सकती है अतः विवादों से दूर रहें तथा दूसरों के कार्यों में हसक्षेप न करें. वाणी पर नियत्रण रखें  तथा संबंधों में कडवाहट न आने दें.

सुख शांति एवं समृद्धि के लिए कराएं “रुद्राभिषेक

kanya कन्या: यात्रा सोच समझ कर करें . यदि आवश्यक न हो तो टाल दें, यात्रा में धन हानि के योग बन रहे है. इस समय खर्चों पर नियंत्रण आवश्यक है अत्यधिक खर्च आपकी वित्तीय स्तिथि को डगमगा सकता है. इन सब के बावजूद शत्रुओं पर आपकी विजय होगी,  आँखों से सम्बंधित कष्ट हो सकता है अतः सावधानी बरतें.

विभिन्न प्रकार के “काल सर्प दोष” जानने के लिए क्लिक करें

tula तुला : तुला लग्न के जातकों के लिए कार्य – व्यापार में बाधा उत्पन्न हो सकती है. , संतान के लिए यह समय  कष्टकारी होगा. अपने बच्चों की सुरक्षा एवं उनकी सांगत पर विशेष ध्यान दे. आपका धन कहीं फंस सकता है , अतः धैर्य बनाये रखें , विवाद करने से बचें. मित्रों और परिवारजनों से आशानुरूप सहयोग नहीं मिलेगा.

जानिए कैसे बनते हैं जन्म कुंडली में विवाह से सम्बंधित योग 

vrishchika वृश्चिक : वृश्चिक लग्न के जातकों को राज दंड का भय व  नौकरी में समस्या आ सकती है.  कोर्ट कचहरी के मामलों में हानि होने के संकेत सितारे दे रहे हैं. अपने कार्यस्थल पर किसी भी प्रकार का विवाद न करें . सहयोगियों के साथ मित्रतापूर्वक व्यवहार बनाये रखने के चेष्टा करें. अपने से उच्च अधिकारियों से भी संबंधों को सुधारें क्योंकि पद अवनति के योग बन रहे हैं. सावधान रहें.

सितम्बर माह में पड़ने वाले एकादशी व्रत और उनसे जुड़ी कथाएँ

dhanu धनु : भाग्य के भरोसे कोई कार्य ना करें, जुआ, लाटरी सट्टे से दूर रहें. कहीं भी धन के बड़े निवेश से बचें.  स्वास्थ्य की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है अतः सावधान रहें.  पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें और अधर्म के कार्यों से किसी भी कीमत पर बचें . अत्यधिक उत्साह से बचें और कोई भी निर्णय जल्दबाजी में न लें.

Click Here For “One Year Report 2017”

makara मकर: मकर लग्न के जातकों के लिए यह योग हानिकारक है . घटना – दुर्घटना का योग बनाएगा , धन हानि संभावित है अतः कहीं भी धन के बड़े निवेश से बचें.  साथ ही वैवाहिक सुख में भी भारी कमी उत्पन्न कर सकता है. वाणी पर नियत्रण रखें  तथा संबंधों में कडवाहट न आने दें.  जीवन साथी के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें.

Book your Telephonic Consultancy with Pt Deepak Dubey Now

 kumbha कुम्भ : यह सूर्य ग्रहण कुम्भ लग्न के जातकों के वैवाहिक जीवन के लिए अत्यन ही कष्टकर योग बना सकता है , जीवन साथी के साथ अनावश्यक का तर्क वितर्क बढेगा , साझेदारी के कार्य में भारी क्षति का योग बनाएगा . किसी के साथ अपने राज़ को साझा न करें, कोई धोखा भी दे सकता है.

सुख शांति एवं समृद्धि के लिए कराएं “रुद्राभिषेक

meena मीन: इस समय आपका साहस दुस्साहस में परिवर्तित हो सकता है हालकी शत्रु लगातार परेशान  कर सकते है फिर भी अंतिम विजय आपकी ही होगी . धन की भारी क्षति का योग बनेगा . अनावश्यक यात्रा और खर्चों से बचें. बड़े निवेश सोच समझ कर करें. यदि इस समय पैतृक संपत्ति से सम्बंधित कोई निर्णय होने वाला है तो उसमे बहुत कठिनाई होगी.

ॐ नमः शिवाय 

शुभम भवतु

पं. दीपक दुबे  (View Profile)


Puja of this Month
New Arrivals
Copyright © 2017 astrotips.in. All Rights Reserved.
Design & Developed by : v2Web