Aries

कुम्भ राशि को काल पुरुष की कुंडली में ग्यारहवां स्थान प्राप्त है . इसका स्वामी ग्रह शनि है . शनि काले रंग का पाप ग्रह है । कुम्भ राशि का चिन्ह जल से भरा घड़ा  है। अतः इस राशि वाले पुरूष की आकृति घड़े के समान गोल व वाणी घड़े के समान गम्भीर व गहरी होती है। ऐसे व्यक्ति प्रायः बाहरी दिखावे में ज्यादा विश्वास रखते हैं। ये भीतर से खोखले व बाहरी दिखावे में सुन्दर दिखलाई पड़ते हैं। कुम्भ राशि वाला व्यक्ति का प्रायः मध्यम कद , गेहुए वर्ण, गोल सिर,  दीर्घकाय, तोंद-युक्त, गम्भीर वाणी बोलने वाला व्यक्ति होता है। यह राशि पुरूष जाति, स्थिर संज्ञक व वायु तत्व प्रधान होती है इसलिए कुम्भ  राशि वाले पुरूष का प्राकृतिक स्वभाव विचारशील, शांत चित्त, धर्मभीरू तथा नवीन आविष्कारों का जन्मदाता है। और पढ़ें …

 

 

आज का राशिफल-कुंभ राशि/ Today’s Rashifal-Aquarius

21 June, 2017

Click Here For Horoscope 2017 /राशिफल 2017 के लिए क्लिक करें

देखें जून 2017 में पड़ने वाले व्रत एवं त्यौहार     

सामाजिक प्रभाव बढेगा  . कहीं सुदूर यात्रा भी संभावित है और यह लाभाकरी भी होगी . धार्मिक गतिविधियों में धन का व्यय संभावित है .

 

साप्ताहिक राशिफल : कुंभ राशि / Aquarius Weekly Horoscope

19-25 June 2017

  •  यह राशिफल लग्न पर आधारित है | कोई भी निष्कर्ष से पहले जन्मकुंडली की जांच अवश्य करवाये.

Click Here For Horoscope 2017 /राशिफल 2017 के लिए क्लिक करें

20जून मंगलवार को योगिनी एकादशी

 मास शिवरात्रि 22 जून को

 श्राद्ध की अमावस्या 23 को और स्नान –दान के लिए 24 जून श्रेष्ठ

पारिवारिक जीवन में कुछ उथल-पुथल हो सकती है। भाई-बंधुओं से जमीन-जायदाद को लेकर कोई विवाद उत्पन्न हो सकता है। स्वास्थ्य के लिहाज से भी समय संवेदनशील है आज अपने करियर के विषय में कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं। प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए समय बहुत अनुकूल नहीं है . मन को एकाग्रचित्त करें और बड़ों का दिल ना दुखाएं . माता का विशेष ध्यान रखें.

मासिक राशिफल अप्रैल-2017 : कुंभ राशि/ Monthly Horoscope Aquarius : April-2017

Click Here For Horoscope 2017 /राशिफल 2017 के लिए क्लिक करें

देखें अप्रैल 2017 में पड़ने वाले व्रत एवं त्यौहार      

भाग्य पक्ष कुछ कमजोर फिर भी आय में वृद्धि होगी .  बौद्धिक क्षमता बहुत अच्छी रहेगी परन्तु वाणी पर नियंत्रण आवश्यक होगा .कभी – कभी  बहुत  क्रोध और उत्तेजना भी बढेगी अतः सावधान रहें.  बड़ों का सहयोग भी और विवाद दोनों की संभावना है.  निवेश के लिए समय अनुकूल नहीं , वैवाहिक सुख में कुछ कमी और परेशानी परन्तु जीवन साथी का फिर भी सहयोग और उसके कारण करियर में कुछ सहयोग भी मिलेगा.

भयानक पितृ दोष और प्रेत बाधा निवारण हेतु कराएँ “माँ वन दुर्गा अनुष्ठान” 

वार्षिक राशिफल – 2017 : कुंभ राशि/ Yearly Horoscope Aquarius -2017

Click Here For Aquarius Horoscope 2017 In English

कुम्भ राशिफल 2016

 Aries

कुम्भ राशिफल 2017 सूर्य या चन्द्र राशि पर आधारित न होकर लग्न पर आधारित है. वर्ष 2017 का राशिफल कुम्भ लग्न के जातकों के स्वास्थ्य , व्यापार , भाग्य और वैवाहिक जीवन से सम्बंधित है. कुम्भ राशिफल 2017 बहुत ही सामान्य आधार पर है अतः किसी विशेष परिस्थिति में अपनी कुंडली की जाँच कराकर ही किसी निष्कर्ष पर पहुंचे . अच्छे या बुरे परिणाम आपकी वर्तमान दशा- अंतर दशा पर निर्भर करते हैं.

 

वर्ष 2017 में ग्रहों की स्तिथि

  • बृहस्पति: इस वर्ष बृहस्पति सितम्बर माह तक आपके अष्टम भाव में रहेंगे.
  • शनि: शनि जनवरी अंत तक बना रहेगा आपके दशम भाव में और अपने गोचर के उपरान्त चला जायेगा आपके एकादश भाव में. हालाँकि शनि इस वर्ष अस्थिर रहेगा परन्तु शनि की यह स्तिथि आपके लिए अशुभ नहीं होगी.  26 जनवरी को शनि गोचर के प्रभाव जानने के लिए क्लिक करें 
  • राहु : राहु इस वर्ष लगभग आधे समय तक आपके सप्तम भाव में बना रहेगा.
  • केतु : केतु आपके लग्न में विराजमान हैं और लगभग आधे वर्ष तक केतु की स्तिथि यही बनी रहेगी.

स्वास्थ्य: बृहस्पति के अष्टम भाव में होने के कारण इस वर्ष मोटापे या वजन बढ़ने से होने वाले रोगों का खतरा आप पर बना रहेगा. जोड़ों का दर्द, मधुमेह और लीवर से सम्बंधित समस्या आपको घेर सकती हैं. हालाँकि यह स्तिथि बहुत अधिक समय तक नहीं रहेगी और आपकी वर्तमान दशा अन्तर्दशा पर भी स्तिथियाँ निर्भर करती हैं. वजन को नियंत्रित रखें और अपने खान -पान और रहन- सहन पर विशेष ध्यान दें. मधुमेह से पीड़ित जातकों को बिमारी बढ़ने का खतरा हो सकता है. वर्ष 2017 में ग्रहों की स्तिथियाँ कुछ इस प्रकार हैं की यदि आप किसी रोग की चपेट में आये तो जल्दी ठीक नहीं होंगे. इसलिए प्रयत्न करें कोई भी रोग आपको न हो और जितनी भी हो सके सावधानी बरतें.

कार्य और व्यापार : यह वर्ष आपके आत्मबल और कार्य क्षमता के लिए बहुत ही उत्तम वर्ष है. इस वर्ष आपके अन्दर कार्य करने का उत्साह वर्ष पर्यंत बना रहेगा और आप अपनी क्षमता से बढ़कर कार्य करेंगे. आत्मबल और आत्मविश्वास भी अधिक रहेगा. महत्वाकांक्षा और उर्जा से परिपूर्ण रहेगा यह वर्ष .

आय की स्तिथि वर्ष के प्रथम भाग में सामान्य से कुछ अधिक और आधे वर्ष के उपरांत बहुत अच्छी रहेगी. कुल मिलकर वर्ष पर्यंत आपको अपनी आय के बारें में चिंता करने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी. वर्ष भर कहीं न कहीं से आपको आय होती रहेगी किन्तु साथ ही धोखा होने की भी संभावनाएं प्रबल हैं. कुम्भ लग्न के जो जातक साझेदारी में कार्य व्यापार कर रहे हों वह आँखें बंद करके किसी पर भी भरोसा न करें और न ही बिना परामर्श के कोई भी निर्णय या कागज़ी कार्यवाही करें. कहीं भी बड़े निवेश से बचें. प्रॉपर्टी से सम्बंधित प्रलोभनों में न आयें. हालाँकि नौकरी और कारोबार में पदोन्नति, आय में बढ़ोत्तरी तो यह वर्ष देगा परन्तु बड़े निवेश के लिए यह वर्ष अनुकूल नहीं है. वर्ष के अंतिम भाग में यात्राएं होंगी और व्यय भी अधिक होने की संभावना है. खर्चे बढ़ेंगे परन्तु शत्रुओं का नाश होगा और पुराने चले आ रहे कर्जों से छुटकारा मिलेगा.

बौद्धिक पक्ष / शिक्षा : कुम्भ लग्न के जो जातक तकनीकी क्षेत्र, वित्तीय लेन देन या शोध कार्यों से जुड़े हैं उनके लिए वर्ष 2017 बहुत ही शुभ एवं उन्नत्तिदायक है. यदि आप किसी परीक्षा प्रतियोगिता में भी बैठते हैं तो सफलता की आशा कर सकते हैं.

वैवाहिक जीवन एवं समबन्ध: साझेदारों के साथ संबंधों में तनाव आयेगा. हालाँकि आय पर इसका प्रभाव नहीं पड़ेगा परन्तु इस तनाव के कारण आपको मानसिक कष्ट से गुजरना पड़ सकता है. यह स्तिथि वैवाहिक संबंधों और प्रेम संबंधों में भी रहेगी. वैचारिक मतभेद के कारण संबंधों में कटुता आएगी और वाद विवाद की स्तिथि पैदा होगी. यदि आपकी जन्म कुंडली में पहले से ही सम्बंधित ग्रह दूषित हैं तो पहले छः माह में संबंधों के टूटने का खतरा बनेगा. अतः सावधान रहें और धैर्य से काम लें. जीवन साथी के प्रति संवेदनशील रहें और एक दूसरे के साथ अधिक से अधिक समय बिताएं .

आवश्यक 

  • अनैतिक संबंधों के कारण बदनामी का भी भय बनेगा अतः सोच समझ कर चलने की आवश्यकता है.
  • वाहन चलते समय सावधानी बरतें , रात को अकेले यात्रा न करें.

संवेदनशील समय 

  • जनवरी, मार्च और सितम्बर  माह में  चोट चपेट, अग्नि से भय और कचहरी से राज दंड का भय हो सकता है.

उपाय 

शुभम भवतु 

पं. दीपक दूबे (View Profile)