" ज्योतिष भाग्य नहीं बदलता बल्कि कर्म पथ बताता है , और सही कर्म से भाग्य को बदला जा सकता है इसमें कोई संदेह नहीं है "
- पं. दीपक दूबे

Aries

तुला राशि को काल पुरुष की कुंडली में सातवाँ स्थान प्राप्त है , तुला लग्न का स्वामी शुक्र है अतः तुला लग्न में जन्मा जातक  विलासी एवं ऐश्वर्यशाली जीवन का शौक़ीन होगा. मध्यम कद, गौर वर्ण तथा सुन्दर आकर्षक चेहरा  इस लग्न में जन्मे जातक के लक्षण हैं. इस लग्न में जन्मे जातक विचारशील तथा ज्ञान प्रिय  होते हैं. इस लग्न के जातकों में संतुलन की शक्ति असाधारण होती है. अच्छे बुरे की पहचान आपसे अधिक और कोई नहीं कर सकता…. आगे पढ़ें

 

 

साप्ताहिक राशिफल : तुला राशि / Libra Weekly Horoscope

16 Oct- 22 Oct 2017

  •  यह राशिफल लग्न पर आधारित है | कोई भी निष्कर्ष से पहले जन्मकुंडली की जांच अवश्य करवाये.

Click Here For Horoscope 2017 /राशिफल 2017 के लिए क्लिक करें

दिवाली कैलेन्डर 2017

आर्थिक स्थिति बेहतर रहेगी | व्यक्तिगत कार्यो में उन्नति की संभावना हैं | अगर अपनी रचनात्मक प्रतिभा को सही तरीके से इस्तेमाल करें तो काफी फायदा होगा | समाज में आपकी प्रशंसा होगी |

मासिक राशिफल अक्टूबर -2017: तुला राशि/ Monthly Horoscope Libra : October -2017

Click Here For Horoscope 2017 /राशिफल 2017 के लिए क्लिक करें

दिवाली कैलेन्डर 2017

आर्थिक स्थिति में उतार चढ़ाव आता रहेगा. जीवन साथी तथा संतान को स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या हो सकती है. दैनिक दिनचर्या अस्त व्यस्त रहेगी . अधिकाँश कार्यों को समय रहते पूरा करने का प्रयत्न करें. माह के अंतिम भाग में उत्साह वर्धन कार्य होंगे जन संपर्क बढेगा तथा आपके लिए लाभप्रद रहेगा.

वार्षिक राशिफल – 2017 : तुला राशि/ Yearly Horoscope Libra -2017

Click Here For Libra Horoscope 2017 In English

तुला राशिफल 2016 

Aries

तुला राशिफल 2017 सूर्य या चन्द्र राशि पर आधारित न होकर लग्न पर आधारित है. वर्ष 2017 का राशिफल तुला लग्न के जातकों के स्वास्थ्य , व्यापार , भाग्य और वैवाहिक जीवन से सम्बंधित है.  तुला राशिफल  2017 बहुत ही सामान्य आधार पर है अतः किसी विशेष परिस्थिति में अपनी कुंडली की जाँच कराकर ही किसी निष्कर्ष पर पहुंचे . अच्छे या बुरे परिणाम आपकी वर्तमान दशा- अंतर दशा पर निर्भर करते हैं.

 

वर्ष 2017 में ग्रहों की स्तिथि

  • बृहस्पति: वर्ष 2017 के सितम्बर माह तक यानी आधे से अधिक समय तक बृहस्पति आपके द्वादश भाव में रहेंगे और उसके बाद आपके लग्न में आयेंगे.
  • शनि: शनि आपके दूसरे भाव में विराजमान हैं परन्तु जनवरी 2017 के अंत में अपने गोचर के पश्चात यह आपके तीसरे भाव में चले जायेंगे. शनि वर्ष 2017 में अपनी अस्थिरता का प्रभाव वर्ष पर्यंत दिखाते रहेंगे.   26 जनवरी को शनि गोचर के प्रभाव जानने के लिए क्लिक करें 
  • राहु : राहु भी वर्ष के आधे से अधिक समय तक एकादश भाव में रहेगा और उसके पश्चात आएगा आपके दशम भाव में.
  • केतु : केतु आपके पंचम भाव में वर्ष के आधे समय तक रहेगा और उसके बाद आएगा आपके चतुर्थ भाव में.
  • वर्ष के प्रारंभ में मंगल शुक्र और केतु की युति है आपके पंचम भाव में.
  • सूर्य और बुध रहेंगे आपके तीसरे अर्थात आपके पराक्रम भाव में

स्वास्थ्य: वर्ष का प्रथम आधा भाग आपके स्वास्थ्य के लिए बेहतर है फिर भी लीवर और पेट सम्बन्धी विकार आपको परेशान किये रहेंगे. यदि पहले से ही लीवर और पेट सम्बन्धी रोगों से ग्रसित हैं तो सावधानी बरतें. समय समय पर चिकित्सीय परामर्श और खान पान में परहेज़ आवश्यक है. जोड़ों में या शारीर में दर्द, वायु विकार की समस्याएं वर्ष के आधे भाग तक ही रहेंगी. जो जातक मस्तिष्क या रीढ़ की हड्डी की समस्या झेल रहें हैं उन्हें वर्ष का दूसरा भाग थोडा कष्टदायी प्रतीत होगा. यह समस्या वर्ष के दूसरे भाग में बढ़ सकती हैं. इस वर्ष स्वास्थ्य सम्बन्धी कोई छोटी भी समस्या हो तो लापरवाही न बरतें अन्यथा किसी बड़ी बिमारी को झेलना पड़ सकता है.

भाग्य: राहु आपके लग्न का परम शत्रु है और लग्न में ही विराजमान है अतः यह आपको भ्रमित किये हुए रहेगा. आप स्तिथियों का सही अनुमान लगाये बिना भावना और उत्तेजना में आकर कई बार निर्णय ले लेंगे. ऐसी स्तिथि में लिए गये निर्णय हानिकारक होंगे, इसलिए अपने मन मस्तिष्क को स्थिर एवं संयमित रखें एवं उतावलेपन से बचें. भाग्य का साथ सामान्य ही रहेगा अतः कर्म पर विश्वास करें . किया हुआ परिश्रम बेकार नहीं जाएगा.

कार्य और व्यापार : वर्ष 2017 में तुला लग्न के जातकों का पराक्रम खूब बढ़ा चढ़ा रहेगा परिणामस्वरूप आप बहुत मेहनत करेंगे और थकेंगे नहीं. यह वर्ष तुला लग्न के जातकों के लिए धन के मामले में बेहतर समय लायेगा. धन की आवक आशा से बढ़कर होगी. आय के स्रोत एक से अधिक रहेंगे. चूँकि तुला लग्न शनि की उच्च राशि है अतः इस वर्ष आपको शनि की विशेष कृपा प्राप्त होगी और आपके पास धन प्रचुर मात्र में आएगा.  कुल मिलकर देखा जाये तो आर्थिक रूप से इस वर्ष आप संपन्न रहेंगे. यदि तुला लग्न के साथ तुला राशी भी है तो इस वर्ष शनि की साढ़े साती से आप पूरी तरह से मुक्त होंगे. पुराने चले आ रहे क़र्ज़ समाप्त होंगे और आपको मानसिक राहत मिलेगी. कार्य व्यापार में उन्नत्ति और समाज में मान प्रतिष्ठा की वृद्धि होगी. 

बौद्धिक पक्ष / शिक्षा बुद्धि सकारत्मक और सोच सही दिशा में रहेगी जो कि बेहतर परिणाम दिलाएगी. आप घटनायों का पूर्वाभास करने में सक्षम होंगें. आपकी यही विशेषता भविष्य में होने वाली कई घटनाओं  से पहले ही आपको सचेत कर देगी.  वर्ष के अंतिम भाग में तुला लग्न के जो जातक वकालत, तकनीकी और धन सम्बन्धी लेखा जोखा देखने का कार्य करते हैं उन्हें सफलता और पदोन्नति मिलेगी. वर्ष का अंतिम भाग और अधिक उत्थान परख रहेगा.  वर्ष के पहले माह में क्रोध की अधिकता रहेगी हालांकि बौद्धिक दृष्टि से ये समय बेहतर है और वर्ष का दूसरा भाग और अधिक उत्थान परख और सफलता दिलाने वाला होगा.

वैवाहिक जीवन एवं समबन्ध: वर्ष का प्रथम आधा भाग संतान पक्ष से कष्ट के योग दर्शा रहा है. तुला लग्न के जातकों की संतान को कोई शारीरिक कष्ट हो सकता है और यदि संतान की कुंडली में भी ऐसा कोई योग है तो तुरंत उपचार आवश्यक है. संतान के खोने का भय बन सकता है अतः  कड़ी निगरानी रखें और उन्हें बुरी संगत से बचाएँ.

वैवाहिक और प्रेम संबंधों के लिए  जनवरी और फरवरी माह बहुत अच्छा समय लायेंगे. प्रेम संबंधों में प्रगाढ़ता आएगी और नए संबंधों के पनपने की भी संभावना है. जो जातक विवाह के इच्छुक हैं उन्हें जनवरी और फरवरी माह में विवाह के प्रस्ताव भी मिलेंगे. अप्रैल मई ,नवम्बर और दिसम्बर माह  वैवाहिक प्रस्तावों के लिए अनुकूल समय रहेगा. इस समय का सदुपयोग करें और पसंदीदा प्रस्ताव को हाथ से न जाने दें. विवाहित जोड़े भी इस समय एक दूसरे के प्रति आकर्षित रहेंगे और पारिवारिक सुख का आनंद लेंगे. कुल मिलकर देखा जाए तो तुला लग्न के जातकों के लिए इस वर्ष संबंधों में कोई विशेष समस्या नहीं आएगी. आप अपने जीवन साथी या प्रेमी के साथ अच्छा समय बिताएंगे और यह वर्ष आपके लिए आनंदायक रहेगा.

मित्रों और करीबियों के साथ इस वर्ष कुछ मन मुटाव होने की संभावना है और पैत्रिक संपत्ति के लिए भी वर्ष 2017 अनुकूल नहीं है. हो सकता है जो कार्य आपको बहुत आसान लग रहा हो वहां आपको बाधाओं का सामना करना पड़े और मामला कोर्ट कचहरी तक चला जाये हालाँकि समाज में मान प्रतिष्ठा के लिए यह वर्ष बहुत ही लाभकारी है.

आवश्यक

  • बड़ों से वाद विवाद से बचें.
  • कोर्ट कचहरी के मामलों में सावधान रहें.
  • संतान के प्रति सचेत रहें
  • गर्भवती महिलाएं विशेष सावधानी बरतें.
  • धन अनैतिक मार्ग से ना आये इसका ध्यान रखें.

संवेदनशील समय

  • जुलाई माह के बाद का समय आपके लिए संवेदनशील है.

उपाय 

  • यदि संतान की कुंडली में भी कोई ख़राब योग या ख़राब ग्रह की दशा चल रही हो तो तुरंत उपचार कराएँ.

शुभम भवतु 

पं. दीपक दूबे (View Profile)


Copyright © 2017 astrotips.in. All Rights Reserved.
Design & Developed by : v2Web